लोकसभा चुनाव से पहले ओबीसी को रिझाने में जुटी कांग्रेस, टिकट वितरण में दिखाई देगी झलक



भोपाल। प्रदेश कांग्रेस की अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) आबादी को रिझाने की कोशिशें विधानसभा चुनाव के पहले से चल रही हैं जो राज्यसभा चुनाव में राजमणि पटेल जैसे ओबीसी नेता को टिकट दिए जाने में नजर आई थी। अब प्रदेश में कांग्रेस सरकार बनने के बाद मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ओबीसी को 27 फीसदी आरक्षण का फैसला लेकर उसे आगे बढ़ाया है। इसकी झलक आने वाले लोकसभा चुनाव में पार्टी के टिकट वितरण में दिखाई देने की संभावना है।


कांग्रेस के ओबीसी नेता लोकसभा चुनाव में अपनी प्रदेश सरकार के ओबीसी आरक्षण के मुद्दे को जनता के बीच ले जाने की तैयारी में है। हालांकि वे अब लोकसभा चुनाव में भी आबादी के आधार पर अपने जीतने वाले नेताओं के लिए टिकट की दावेदारी में भी जुट गए हैं। सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस ओबीसी आबादी वाली लोकसभा सीटों पर काम कर रही है।


आठ लोकसभा क्षेत्र दमोह, खजुराहो, खंडवा, होशंगाबाद, सागर, भोपाल, मंदसौर और जबलपुर में अन्य पिछड़ा वर्ग की 50 से 54 फीसदी आबादी बताई गई है। इन सीटों के अलावा रीवा, सतना जैसे लोकसभा क्षेत्रों में भी 48 फीसदी आबादी ओबीसी की बताई गई है। जीतने वाले नेताओं को टिकट दिलाएंगे ओबीसी आबादी वाली लोकसभा सीटों पर कांग्रेस प्रत्याशी को जिताने के लिए काम करेंगे। जिन सीटों पर ओबीसी के जीतने वाले नेता होंगे, उन्हें ही टिकट दिए जाने की मांग करेंगे।  - राजमणि पटेल, राज्यसभा सदस्य, कांग्रेस 

loading...



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति