डिजिटल इंडिया प्रोग्राम में बोले पीएम मोदी



नई दिल्ली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को डिजिटल इंडिया मुहिम के विभिन्न अभियानों के लाभार्थियों से बातचीत की। इस बातचीत में मोदी ने कहा कि डिजिटल सेवाओं की पहुंच के लिए एक्सेस पॉइंट की तरह काम करने वाले तीन लाख सामान्य सेवा केंद्रों के नेटवर्क ने रोजगार एवं उद्यमिता के अवसरों को बढ़ावा देकर नागरिकों को सशक्त किया है। मोदी ने कहा कि उनकी सरकार ने कई सेवाओं को लोगों के दरवाजे तक पहुंचाने का काम किया था। उन्होंने बताया कि डिजिटल इंडिया लोगों तक विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में प्रौद्योगिकी के फायदे पहुंचाने के उद्देश्य से शुरू किया गया था।


मोदी ने कहा कि प्रौद्योगिकी ने रेल टिकट बुक करने और ऑनलाइन बिलों का भुगतान करने में मदद की है जिससे काफी सहूलियत हुई है। उन्होंने कहा , ‘हमने यह सुनिश्चित किया कि प्रौद्योगिकी के फायदे कुछ ही लोगों तक सीमित नहीं रहें बल्कि ये समाज के हर वर्ग तक पहुंचें। हमने सामान्य सेवा केंद्रो के नेटवर्क को मजबूत किया है।’ पीएम ने कहा कि यह मुहिम गांव के स्तर पर उद्यमियों का समूह तैयार करने की है। प्रधानमंत्री ने इन केंद्रों को संचालित करने वाले ग्राम स्तरीय उद्यमियों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संबोधित करते हुए कहा कि डिजिटल इंडिया को देश के गांवों एवं युवाओं को जोड़ने के लक्ष्य के साथ शुरू किया गया था।


उन्होंने कहा कि पिछले चार सालों में इसने कई सेवाओं को आम लोगों के घरों के दरवाजे तक पहुंचाया है। मोदी ने कहा, ‘डिजिटल सशक्तिकरण के हर पहलू पर (गांवों में फाइबर ऑप्टिक्स पहुंचाने से डिजिटल शिक्षा तक) काम किया गया है।’ इस मौके पर डिजिटल इंडिया के कुछ लाभार्थियों ने भी अपने अनुभव साझा किए। गौतम बुद्ध नगर के जितेंद्र सिंह सोलंकी ने कहा कि उनके गांव में इंटरनेट कनेक्शन पहुंचने के बाद बच्चों को ऑनलाइन कोचिंग मिलने लगी है। इसके अलावा डिजिटल शिक्षा बढ़ रही है और बुजुर्गों की पेंशन संबंधी दिक्कतों को प्रौद्योगिकी के जरिए सुलझाया जाने लगा है। मोदी ने लाभार्थियों से कहा कि वे कारोबारियों पर भीम ऐप इंस्टॉल करने का दबाव बनाएं ताकि सेवाओं एवं सामानों के लिए डिजिटल तरीके से भुगतान किया जा सके।

loading...



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति