होम शख्सियत
godse-a-journey-from-nation-to-father-of-nation

राष्ट्रवाद से राष्ट्रपिता तक का गोडसे

उसका नाम पहले रामचंद्र रखा गया। लड़कियों जैसे परिवेश की खातिर रामचंद्र की नाक छेदकर उसे नथ पहनायी गयी थी। इसीलिए बाद में नाम नाथुराम पड़ गया। उसे लड़कों की तरह तब ही पालना-पोसना शुरू किया गया, जब परिवार में उसका एक छोटा भाई भी आ गया।  आगे पढ़ें

personality-of-mamata-banerjee

ताकतवर से टकराकर ही ताकत पायी ममता ने

कभी कांग्रेस तो कभी एनडीए की सवारी का आनंद लेते हुए ममता ने कहीं ओर का ही लक्ष्य तय कर रखा था। आज की तारीख में यह साफ महसूस किया जा सकता है कि उनकी नजर प्रधानमंत्री पद की ओर थी। लेकिन इसके लिए बहुत मजबूत आधार जरूरी था। इसलिए ममता ने तृणमूल कांग्रेस पार्टी की स्थापना की।  आगे पढ़ें

manishankar-aiyar-and-his-past

अय्यर अर्थात् अय्यार...!

बचपन का असर हो या कराची की आबो-हवा, अय्यर इस देश के प्रति आकंठ प्रेम में नजर आते हैं। वहां की हुकूमत पर उनका इतना यकीन है कि सन 2015 में उन्होंने पाकिस्तान से नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद से हटाने हेतु सहयोग मांग लिया था।  आगे पढ़ें

jagadish-chandra-bose-was-the-first-such-scientist

शख्सियत: इनकी सोच थी रिमोट कंट्रोल सिस्टम, मार्कोनी से होती है तुलना

जगदीशचंद्र बोस पहले ऐसे वैज्ञानिक थे, जिन्होंने रेडियो और सूक्ष्म तरंगों के अध्ययन पर काम किया। आज देश उन्हें मार्कोनी के साथ रेडियो का सह-आविष्कारक मानता है।  आगे पढ़ें

harivansh-rai-bachchan-poet-tells-world-that-world

हरिवंश राय बच्चन: एक कवि जिसने 'दुनिया' को बताया कि 'दुनिया' के अंदर भी एक 'दुनिया' है

हरिवंश राय बच्चन यानी हरिवंश राय श्रीवास्तव, यानी हिंदी साहित्य के लोकप्रिय नामों में से एक नाम, यानी मशहूर अभिनेता अमिताभ बच्चन के पिता, यानी हिंदी की सबसे अधिक लोकप्रिय रचना 'मधुशाला' के रचयिता.  आगे पढ़ें

ravivari-important-personalities-special-story-kno

शख्सियत: बटुकेश्वर दत्त

भारतीय स्वतंत्रता सेनानी बटुकेश्वर दत्त का जन्म बंगाल के औरी गांव में हुआ था। उन्हें लोग बट्टू दत्त और मोहन के नाम से भी जानते थे। जब उन्होंने सेंट्रल असेंबली पर बम फेंका, तो उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया, तो वे देश भर में चर्चित हो गए थे।  आगे पढ़ें

a-look-at-the-life-of-brigadier-kuldeep-singh-chan

ब्रिगेडियर कुलदीप सिंह चांदपुरी के जीवन पर एक नजर

1971 में भारत-पाक के लोंगेवाल युद्ध में दुश्मनों को धूल चटाने वाले ब्रिगेडियर कुलदीप सिंह चांदपुरी के निधन से देश मे शोक की लहर फैल गई है। ब्रिगेडियर कुलदीप सिंह चांदपुरी में हर तरह की परिस्थितियों में अपने को काबू करने का अनोखा ही अदम्य साहस था।  आगे पढ़ें

bhojpuri-dinesh-lal-yadav-nirahua-border-race-3-po

'बॉर्डर' के एक्टर निरहुआ के खिलाफ जान से मारने की धमकी की शिकायत दर्ज, सलमान की 'रेस 3' से टकराई थी फिल्म

नई दिल्ली: भोजपुरी सिनेमा के जुबली स्टार दिनेश लाल यादव निरहुआ (Dinesh Lal Yadav Nirahua) की नई फिल्म 'बॉर्डर' ईद पर रिलीज हुई थी और फिल्म ने बिहार और यूपी के कुछ सेंटर्स में सलमान खान की 'रेस 3' को जबरदस्त टक्कर भी दी. फिल्म को मिल रहे जबरदस्त रिस्पॉन्स से फिल्म की टीम बेहद खुश है लेकिन फिल्म के लीड एक्टर निरहुआ के लिए बुरी खबर आई है. निरहुआ के खिलाफ जान से मारने की धमकी देने की मुंबई में शिकायत दर्ज कराई गई है. भोजपुरी सिनेमा के पीआरओ और पत्रकार शशिकांत सिंह ने निरहुआ के साथ अपनी इस बातचीत को रिकॉर्ड कर लिया है और उन पर गाली-गलौच और जान से मारने की धमकी देने के आरोप लगाए हैं. उधर, निरहुआ के छोटे भाई और फिल्म एक्टर परवेश लाल यादव ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि पिछले कुछ समय से शशिकांत सोशल मीडिया पर 'बॉर्डर' के खिलाफ नेगेटिव अभियान चलाए हुए थे. नेगेटिव बातें फैला रहे थे. हालांकि उन्होंने निरहुआ और शशिकांत की बातचीत के बारे में कुछ ज्यादा नहीं कहा, लेकिन ये माना कि दोनों में गरमागर्मी हुई थी. निरहुआ की हालिया रिलीज को लेकर शशिकांत लगातार अपने सोशल मीडिया एकाउंट पर लिख रहे थे. वे फिल्म से जुड़े अलग-अलग तथ्य दे रहे थे. शशिकांत ने निरहुआ के साथ हुई इस पूरी बातचीत को रिकॉर्ड कर रखा है, और इस बारे में निरहुआ को भी बातचीत के दौरान जानकारी दी थी. इस ऑडियो में जो आवाज सुनाई दे रही है वह कथित तौर पर निरहुआ की बताई जा रही है. शशिकांत ने निरहुआ के खिलाफ पुलिस शिकायत दर्ज करवा दी है. निरहुआ के भाई परवेश लाल यादव का कहना है कि वे भी पटना में शशिकांत के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाने जा रहे हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि शशिकांत लंबे समय से 'बॉर्डर' के खिलाफ नेगेटिव अभियान चलाए हुए थे. फिल्म में मेहनत का पसीना लगा होता है, ऐसे में इस तरह की बातें करना सही नहीं है. आरोपों का दौर शुरू हो चुका है और मामला पुलिस तक पहुंच गया है. अब निरहुआ के बयान का इंतजार किया जा रहा है.   आगे पढ़ें

pm-modi-interacted-with-beneficiaries-of-digital-i

डिजिटल इंडिया प्रोग्राम में बोले पीएम मोदी

नई दिल्ली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को डिजिटल इंडिया मुहिम के विभिन्न अभियानों के लाभार्थियों से बातचीत की। इस बातचीत में मोदी ने कहा कि डिजिटल सेवाओं की पहुंच के लिए एक्सेस पॉइंट की तरह काम करने वाले तीन लाख सामान्य सेवा केंद्रों के नेटवर्क ने रोजगार एवं उद्यमिता के अवसरों को बढ़ावा देकर नागरिकों को सशक्त किया है। मोदी ने कहा कि उनकी सरकार ने कई सेवाओं को लोगों के दरवाजे तक पहुंचाने का काम किया था। उन्होंने बताया कि डिजिटल इंडिया लोगों तक विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में प्रौद्योगिकी के फायदे पहुंचाने के उद्देश्य से शुरू किया गया था। मोदी ने कहा कि प्रौद्योगिकी ने रेल टिकट बुक करने और ऑनलाइन बिलों का भुगतान करने में मदद की है जिससे काफी सहूलियत हुई है। उन्होंने कहा , ‘हमने यह सुनिश्चित किया कि प्रौद्योगिकी के फायदे कुछ ही लोगों तक सीमित नहीं रहें बल्कि ये समाज के हर वर्ग तक पहुंचें। हमने सामान्य सेवा केंद्रो के नेटवर्क को मजबूत किया है।’ पीएम ने कहा कि यह मुहिम गांव के स्तर पर उद्यमियों का समूह तैयार करने की है। प्रधानमंत्री ने इन केंद्रों को संचालित करने वाले ग्राम स्तरीय उद्यमियों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संबोधित करते हुए कहा कि डिजिटल इंडिया को देश के गांवों एवं युवाओं को जोड़ने के लक्ष्य के साथ शुरू किया गया था। उन्होंने कहा कि पिछले चार सालों में इसने कई सेवाओं को आम लोगों के घरों के दरवाजे तक पहुंचाया है। मोदी ने कहा, ‘डिजिटल सशक्तिकरण के हर पहलू पर (गांवों में फाइबर ऑप्टिक्स पहुंचाने से डिजिटल शिक्षा तक) काम किया गया है।’ इस मौके पर डिजिटल इंडिया के कुछ लाभार्थियों ने भी अपने अनुभव साझा किए। गौतम बुद्ध नगर के जितेंद्र सिंह सोलंकी ने कहा कि उनके गांव में इंटरनेट कनेक्शन पहुंचने के बाद बच्चों को ऑनलाइन कोचिंग मिलने लगी है। इसके अलावा डिजिटल शिक्षा बढ़ रही है और बुजुर्गों की पेंशन संबंधी दिक्कतों को प्रौद्योगिकी के जरिए सुलझाया जाने लगा है। मोदी ने लाभार्थियों से कहा कि वे कारोबारियों पर भीम ऐप इंस्टॉल करने का दबाव बनाएं ताकि सेवाओं एवं सामानों के लिए डिजिटल तरीके से भुगतान किया जा सके।   आगे पढ़ें

Previous 1 2 3 Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति