शीला दीक्षित बोलीं: आतंक के खिलाफ मनमोहन का रुख मोदी जैसा सख्त नहीं, भाजपा ने किया धन्यवाद



नई दिल्ली। दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष शीला दीक्षित ने गुरुवार को ऐसा कुछ बोल दिया जो एक तरफ बीजेपी को भा गया, तो दूसरी तरफ आम आदमी पार्टी ने उन्हें निशाने पर लिया। उनके इस कथित बयान से अब उनकी अपनी पार्टी के लिए यह मुसीबत खड़ी हो सकती है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार शीला दीक्षित ने कहा है कि पूर्व पीएम मनमोहन सिंह आतंकवाद को लेकर उतने सख्त नहीं थे, जितने कि पीएम मोदी हैं। लेकिन इसके बाद शीला दीक्षित ने इस पर सफाई दी है। उन्होंने कहा है कि उनके बयान को तोड़-मरोड़कर पेश किया गया है।   लेकिन जबतक शीला ने अपनी सफाई दी तब तक काफी देर हो चुकी थी। सोशल मीडिया में तेजी से यह बयान फैल गया और बीजेपी और आप ने इस पर न केवल शीला दीक्षित को निशाने पर लिया, बल्कि पार्टी को भी कठघरे में ला दिया।


उनकी सफाई के बावजूद, उनके इस बयान पर बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने ट्वीट कर लिखा कि जिस बात को पूरा देश पहले से ही जानता है, उसे दोहराने के लिए शीला दीक्षितजी आपका धन्यवाद। लेकिन कांग्रेस पार्टी इस बात को कभी नहीं मानेगी। वहीं, आप के संयोजक और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर लिखा कि शीला जी का ये बयान वाकई चौंकाने वाला है। बीजेपी और कांग्रेस में कुछ तो खिचड़ी पक रही है। उन्होंने अपने दूसरे ट्वीट में लिखा कि बीजेपी और कांग्रेस के बीच गठबंधन आज सामने आ गया।  शीला ने दी सफाई  शीला दीक्षित ने एक टीवी चैनल को इंटरव्यू दिया है। इंटरव्यू के दौरान उनसे जब यूपीए सरकार में हुए 26/11 हमले का जवाब देने पर सवाल पूछा गया, तो उन्होंने कहा कि हां, मैं आपसे सहमत हूं। मनमोहन सिंह पीएम मोदी की तरह आतंकवाद को लेकर मजबूत फैसले लेने वाले नहीं थे। लेकिन मुझे यकीन है कि मोदी सिर्फ राजनीति के लिए ऐसा करते हैं।


इसके बाद जब यह बातें सोशल मीडिया में आईं, तब शीला ने इस मीडिया रिपोर्ट्स पर ट्वीट कर अपनी सफाई दी। शीला ने कहा कि कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में मेरे बयान को तोड़-मरोड़ कर पेश किया जा रहा है। शीला ने अपने इस इंटरव्यू के बयान पर सफाई देते हुए कहा कि मैंने इंटरव्यू में कहा था कि कुछ लोगों को यह लग रहा है कि पीएम मोदी आतंकवाद पर काफी सख्त हैं, लेकिन यह और कुछ नहीं बस वोट लेने का एक हथकंडा है।  'बीजेपी और कांग्रेस का गठबंधन'  शीला के इस बयान पर दिल्ली के डेप्युटी सीएम मनीष सिसोदिया ने ट्वीट कर कहा कि हम तो पहले से ही कह रहे थे कि इस बार कांग्रेस, मोदीजी को दोबारा पीएम बनाने पर काम कर रही है। इसी ट्वीट को कोट कर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी ट्वीट किया और उन्होंने लिखा कि शीला जी का यह बयान वाकई चौंकाने वाला है। बीजेपी और कांग्रेस में कुछ तो खिचड़ी पक रही है। उन्होंने आगे लिखा कि बीजेपी और कांग्रेस के बीच गठबंधन आज सामने आ गया।  दूसरी तरफ, शीला दीक्षित का इंटरव्यू करने वाले एक वरिष्ठ पत्रकार ने शीला दीक्षित द्वारा अपनी सफाई में किए गए ट्वीट का समर्थन करते हुए कहा कि उनके बयान को तोड़ मरोड़ कर नहीं देखना चाहिए और उन्होंने पूरे इंटरव्यू को सोशल मीडिया पर भी शेयर किया।  

loading...



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति