होम राजनीति
brahmashastra-of-religion-in-ups-politics-leaders-

यूपी की सियासत में धर्म का ब्रह्मास्त्र, आस्था के आसरे हैं नेता

यूपी की सियासत में आस्था के ब्रह्मास्त्र का सियासी असर बहुत गहरे से नापा जा चुका है। सियासी रणनीति में इसके सटीक इस्तेमाल से बीजेपी अर्श पर पहुंच चुकी है। वहीं पंथनिरपेक्षता के नाम पर इसके मुखर विरोध के चलते अल्पसंख्यक तुष्टिकरण का तमगा लेकर विपक्ष फर्श पर। यही वजह है कि इस बार लोकसभा चुनाव में विपक्ष 'नरम हिंदुत्व' की सियासत साधने के लिए आस्था के मुखर प्रदर्शन से कहीं भी परहेज नहीं कर रहा है। राममंदिर आंदोलन से हुए भाग्योदय के बाद बीजेपी ने विकास को चुनावी चेहरा तो बनाया लेकिन उसे आस्था के 'अमृत' से प्रभावी बनाने की रणनीति नहीं छोड़ी।  आगे पढ़ें

lalus-party-on-the-verge-of-breaking-up-in-jharkha

झारखंड में टूट की कगार पर लालू की पार्टी, राजद का बड़ा धड़ा भाजपा के संपर्क में

पार्टी के बीच भीतरघात की यह बड़ी वजह बताई जा रही है। जनार्दन पासवान ने भाजपा में जाने का लगभग संकेत दे दिया है। इससे इतर अन्नपूर्णा देवी का फोन जहां शनिवार को सुबह से ही बंद था, वहीं मनोज भुइयां का मोबाइल कवरेज क्षेत्र से बाहर बताता रहा। पार्टी सूत्रों के अनुसार दल का एक धड़ा राजद के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष गिरिनाथ सिंह को चतरा से लड़ाना चाहता था, जबकि अन्नपूर्णा की निगाहें कोडरमा सीट कटने के बाद पलामू पर थी। उन्होंने इस बाबत पलामू में रथयात्रा निकालने के साथ-साथ अन्य कार्यक्रमों का भी आयोजन किया था।  आगे पढ़ें

pm-modi-and-rahul-can-fight-two-two-seats-the-mark

पीएम मोदी और राहुल लड़ सकते हैं दो-दो सीटों से चुनाव, चर्चाओं का बाजार गर्म

भाजपा ने अपनी पहली ही लिस्ट में साफ कर दिया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर वाराणसी सीट से लड़ेंगे। वहीं कर्नाटक में चर्चा है कि मोदी यहां की एक सीट से भी पर्चा भरेंगे। यह सीट है बेंगलुरू दक्षिण। कांग्रेस को भी इस बात के संकेत मिले हैं, इसीलिए उनसे इस सीट पर अपने प्रत्याशी का ऐलान नहीं किया है। स्थानीय नेता तो यही मान रहे हैं कि यहां से दोनों पार्टियां किसी चौंकाने वाले प्रत्याशी को मैदान में उतारेंगी।  आगे पढ़ें

shatrughan-sinha-can-join-the-congress-in-a-day-or

भाजपा का दामन छोड़ एक-दो दिन में कांग्रेस में शामिल हो सकत हैं शत्रुघ्न सिन्हा

शत्रुघ्न पहले ही स्पष्ट कर चुके हैं कि वह पटना साहिब से ही चुनाव लड़ेंगे। इस बीच ऐसी खबरें आ रही थीं कि बीजेपी उन्हें इस बार टिकट नहीं देगी। असल में दो बार सांसद रह चुके शत्रुघ्न सिन्हा का 2015 में हुए विधानसभा चुनावों के बाद से बीजेपी से मोहभंग हो गया था। इसके बाद से उन्होंने कई मुद्दों पर बीजेपी की खुलकर आलोचना की है। यहां तक कि विपक्षी नेताओं के साथ उन्होंने मंच भी साझा किया है। होली से पहले भी उन्होंने अपने ट्वीट में 'चौकीदार' वाले मामले में पीएम नरेंद्र मोदी की आलोचना की थी।  आगे पढ़ें

last-night-the-bjp-released-the-second-list-of-nom

देर रात भाजपा ने जारी की प्रत्याशियों की दूसरी लिस्ट, पुरी सीट से संबित पात्रा को मिला टिकट

बीजेपी ने आंध्र प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए 51 उम्मीदवारों, ओडिशा विधानसभा चुनाव के लिए 22 उम्मीदवारों और मेघालय के सेलसेला विधानसभा क्षेत्र में उपचुनाव के लिए एक उम्मीदवार के नाम का ऐलान किया है। बीजेपी ने लोकसभा चुनाव के लिए गुरुवार को 184 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी थी। पीएम मोदी, राजनाथ सिंह और नितिन गडकरी अपनी पिछली सीटों से ही लड़ेंगे। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह गांधीनगर से चुनाव लड़ेंगे, जहां से अभी लाल कृष्ण आडवाणी सांसद हैं। नड्डा ने बताया कि बिहार से बीजेपी के सभी 17 उम्मीदवारों के नाम तय हो चुके हैं, लेकिन उनका ऐलान नहीं किया। बीजेपी की पहली लिस्ट में कुल 20 राज्यों को कवर किया गया था।  आगे पढ़ें

congress-releases-seventh-list-of-35-candidates-ra

कांग्रेस ने जारी की 35 उम्मीदवारों की सातवीं लिस्ट, राजबब्बर अब लड़ेंगे फतेहपुर सीकरी से

लोकसभा चुनाव के पहले राजनीतिक दलों के बीच अपने उम्मीदवारों की लिस्ट जारी करने का क्रम जारी है। इसी कड़ी में शुक्रवार को कांग्रेस ने अपने 35 प्रत्याशियों की सातवीं सूची जारी की। इस सूची के मुताबिक पार्टी के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर मुरादाबाद की बजाय फतेहपुर सीकरी सीट से लड़ेंगे। उनकी जगह कांग्रेस ने मुरादाबाद से इमरान प्रताप गड़हरिया को प्रत्याशी बनाया है।  आगे पढ़ें

goa-government-will-do-floor-test-today-trust-of-n

गोवा सरकार आज फ्लोर टेस्ट का करेगी सामना, नए सीएम को जीत का भरोसा

फ्लोर टेस्ट में सफलता को लेकर आश्वस्त सावंत का कहना है, 'गठबंधन सरकार में बड़ी पार्टी सत्ता चलाती है। इस मामले में बीजेपी बड़ी पार्टी है। हमने उनकी सभी शर्तें मान लगी हैं और हम सबको विश्वास में लेकर अगले तीन साल तक स्थाई सरकार चलाएंगे।' सावंत आगामी उपचुनाव और लोकसभा चुनाव दोनों में जीत हासिल करने को लेकर खुद को आश्वस्त बता रहे हैं लेकिन उन्हें सहयोगी दलों की आक्रामकता और अंदरूनी असंतोष दोनों से जूझना होगा। राज्य के अगले स्पीकर बताए जा रहे मौजूदा डिप्टी स्पीकर बीजेपी एमएलए माइकल लोबो का कहना है कि उनकी दिलचस्पी स्पीकर बनने में नहीं है।  आगे पढ़ें

pm-modi-will-be-the-watchman-campaign-in-500-locat

पीएम मोदी 500 स्थानों पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए 'मैं भी चौकीदार' का करेंगे कैंपेन

बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया कि आज हम देश के लोगों का अभिनंदन करना चाहते हैं कि महज कुछ दिनों में ही इस आंदोलन के साथ करोड़ों लोग जुड़े हैं। बीजेपी लीडर ने कहा कि यह एक बड़ा जनांदोलन बन गया है। इसमें डॉक्टर, प्रफेशनल किसान और स्वच्छता कर्मचारी समेत सभी जुड़े हैं। कुछ लोगों को इससे परेशानी है, आप मोदी जी से नफरत करते हैं, लेकिन आप भी चौकीदार बन जाते तो क्या दिक्कत थी।  आगे पढ़ें

political-stir-in-up-increased-congress-candidate-

यूपी में सियासी हलचल बढ़ी, कांग्रेस प्रत्याशी ने मायावती और अखिलेश के फैसले पर उठाए सवाल

मसूद ने बताया, 'एसपी-बीएसपी के नेताओं के फैसले से मुस्लिम समुदाय नाराज है। यूपी के मुस्लिम इस बात पर हैरानी जता रहे हैं कि क्या गठबंधन कांग्रेस के साथ नहीं खड़ा होकर बीजेपी का पक्ष ले रहा है?' उन्होंने दावा किया कि भीम आर्मी के चीफ चंद्रशेखर आजाद की रिहाई में अहम भूमिका निभाने के चलते भीम आर्मी भी उनका समर्थन कर रही है और वह इस लोकसभा चुनाव में 5 लाख से ज्यादा वोट पाएंगे।  आगे पढ़ें

rjd-and-congress-can-get-9-seats-on-19th-may-formu

बिहार में सीट बंटवारे को लेकर महागठबंधन ने तय किया फार्मूला, 19 पर आरजेडी और कांग्रेस को मिल सकती हैं 9 सीटें

राज्य की 40 लोकसभा सीटों पर मंगलवार को महागठबंधन की डील फाइनल हो गई है। इससे पहले सीटों के बंटवारे पर महागठबंधन के सहयोगियों में अनबन की खबरें आई थीं। महागठबंधन के हर सहयोगी के खाते में कितनी सीटें आएंगी, इस बारे में बुधवार को पटना में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान ऐलान किया जा सकता है। हमारे सहयोगी टाइम्स आॅफ इंडिया को सूत्रों से खबर मिली है कि आरजेडी 19 और कांग्रेस 9 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। बाकी सीटों पर महागठबंधन में शामिल आरएलएसपी जैसी छोटी पार्टियों को शामिल किया जा सकता है।  आगे पढ़ें

Previous 1 2 3 Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति