सीएम योगी आदित्यनाथ का लखनऊ में पुलिस लाइन का औचक निरीक्षण, अफसरों में खलबली



लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ विकास तथा राहत कार्य में भौतिक निरीक्षण में भरोसा रखते हैं। छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशियों के पक्ष में चुनावी सभा करने के बाद रोज सीएम योगी आदित्यनाथ लखनऊ वापस आकर काम भी निपटाते हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज अचानक लखनऊ पुलिस लाइन का निरीक्षण करने निकल पड़े । लखनऊ पुलिस लाइन के औचक निरीक्षण के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पुलिसकर्मियों के आवास के साथ अन्य सुविधाओं का निरक्षण किया। पुलिस स्मृति दिवस के दौरान भी लखनऊ पुलिस लाइन में कार्यक्रम के दौरान उन्होंने पुलिसकर्मियों को बेहतर सुविधा दिलाने का भरोसा दिलाया था। माना जा रहा है कि आज का उनका यह औचक निरीक्षण उसी क्रम में है। जिस समय सीएम वहां पहुंचे उस समय नए रंगरूटों की ट्रेनिंग भी चल रही थी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज लखनऊ पुलिस लाइन का औचक निरीक्षण किया।


सीएम योगी आदित्यनाथ के बिना पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के पुलिस लाइन आने की सूचना से महकमे में खलबली मच गई। आनन फानन सारे अधिकारी लाइन पहुचे। सीएम योगी आदित्यनाथ पुलिस के जवानों को मिल रही सभी सुविधा को स्वयं परखना चाहते हैं।उनके साथ डीजीपी ओपी सिंह तथा आईजी जोन सुजीत पाण्डेय व एसएसपी लखनऊ कलानिधि नैथानी भी हैं। मुख्यमंत्री ने सबसे पहले अस्तबल पहुंचे और घोड़ों के बारे में जानकारी ली। इसके बाद उन्होंने पैदल ही पुलिस लाइन का भ्रमण किया। इस दौरान उन्होंने निर्माणाधीन बैरक के बारे में पूछताछ की। उन्होंने ठेकेदार और अन्य कार्यदायी संस्थाओं से भवन के निर्माण में लगने वाले समय के बारे में पूछा और इसे जल्द पूरा करने के निर्देश दिए। डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि निर्माण पूरा होने से करीब 200 परिवारों के रहने की व्यवस्था हो जाएगी।


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पुलिस लाइन में अस्तबल के साथ आवासीय परिसर, शास्त्रागार व नियंत्रण कक्ष का भी निरीक्षण किया। करीब आधा घंटा के औचक निरीक्षण के दौरान उन्होंने कर्मचारियों से भी वार्ता की। सफाई का विशेष निर्देश भी दिया। सीएम योगी आदित्यनाथ पुलिस के जवानों को मिल रही सभी सुविधा को स्वयं परखा। इस दौरान सीएम योगी ने पुलिस लाइन में पुलिसकर्मियों के आवास व अन्य सुविधाओं का निरीक्षण किया। सीएम के अचानक निरीक्षण के दौरान पुलिस लाइन के आसपास गंदगी का अंबार लगा हुआ था। पुलिसकर्मियों ने अपनी समस्याएं बताई। इस दौरान उन्होंने निर्माणाधीन बैरक के बारे में पूछताछ की. उन्होंने ठेकेदार और अन्य कार्यदायी संस्थाओं से भवन के निर्माण में लगने वाले समय के बारे में पूछा और इसे जल्द पूरा करने के निर्देश दिए। डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि आने वाले समय में हमारी कोशिश है आवासों को मल्टी स्ट्रोरी बनाया जाएगा। इस पर सीएम ने सहमती दे दी है। डीजीपी ने कहा कि नए बैरक बनने से राहत मिलेगी।

loading...



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति