केबीसी में 25 लाख के सवाल पर अटके दुमका के श्याम



झारखंड की उपराजधानी दुमका के श्रीरामपाड़ा निवासी युवा व्यवसायी श्याम राज गुरुवार की रात कौन बनेगा करोड़पति की हॉट सीट पर बैठकर महानायक अमिताभ बच्चन के 12वें सवाल का जवाब देते हुए 12 लाख 50 हजार की धनराशि जीत गए। वे 25 लाख रुपये के 13वें सवाल पर अटक गए। यहां तक पहुंचने से पहले श्याम अपनी तमाम लाइफ लाइन का इस्तेमाल भी कर चुके थे। रिस्क लेने के बजाए उन्होंने गेम को क्विट कर दिया। 25 लाख रुपये का सवाल गौतम बुद्ध से जुड़ा था। इसके जवाब को लेकर उनके मन में दुविधा थी। इससे पहले बिग बी ने सवालों की शुरुआत करते हुए एक हजार रुपये के लिए पहला सवाल सोनी की टीटू की..के आगे की खाली जगह को भरना था। इसके बाद श्याम से बिग बी ने पूछा हम फिट तो इंडिया फिट का स्लोगन किसने दिया है। सचिन तेंदुलकर की बचपन की तस्वीर दिखाकर उसकी पहचान से जुड़ा सवाल बिग बी ने किया। श्याम से यह भी पूछा गया कि किस पहली महिला प्रधानमंत्री ने अपने कार्यकाल के दौरान बच्ची को जन्म दिया। इसी क्रम में अमिताभ ने श्याम से 12 सवाल पूछे।


इनका जवाब देने में श्याम ने अपनी सभी लाइफ लाइन ऑडियंस पोल, फिफ्टी-फिफ्टी, जोड़ीदार के अलावा एक्सपर्ट पंकज पचौरी का इस्तेमाल किया। 12 लाख 50 हजार रुपये की धनराशि जीत भी ली। श्याम से जब यह पूछा गया कि मई 2018 में इंडिया में कितने मिलियन मोबाइल सब्सक्राइबर हैं तो उसका जवाब श्याम ने 900 दिया। इसे कंफर्म करने के लिए श्याम ने पहले ओडियंशन पोल और फिर एक्सपर्ट पंकज पचौरी का सहारा ले लिया। पंकज ने उन्हें सही जवाब देते हुए कहा कि भारत में मई 2018 तक 1200 मिलियन मोबाइल सब्सक्राइबर हैं। उन्हें इस उत्तर के साथ जाना चाहिए। श्याम ने पंकज पचौरी की बात मानते हुए उनके बताए जवाब को चुना और इस जवाब ने श्याम को अगले सवाल तक पहुंचाने में मदद की। दूसरा सवाल जहां श्याम अटके वह था कि नोबेल प्राइज में कौन सा बैंक राशि की फंडिग करता है। इसके जवाब में श्याम अटक गए। यहां तक पहुंचने में श्याम ने सभी लाइफलाइन गंवा दीं। जब 25 लाख का सवाल उनके सामने आया तो वे सही उत्तर चुनने में अपने को असमर्थ पा रहे थे। अंत में 12 लाख 50 हजार रुपये जीतकर गेम छोड़ने का निर्णय लिया। बिग बी के साथ गुजरे पलों की चर्चा पर ही उनके चेहरे पर खुशी झलकने लगी।


दैनिक जागरण के साथ उन पलों को साझा करते हुए श्याम ने बताया कि जब अमिताभ बच्चन ने उन्हें केबीसी की टैग लाइन 'कब तक रोकोगे' बोलकर आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया था तो भावातिरेक आंखें भर आईं थीं। सेट पर पहली बार अमिताभ आए और प्रतिभागियों की ओर से हवा में अपना हाथ लहराया तो सब उनकी ओर दौड़ पड़े थे। बिग बी की एक बात गांठ बांध ली है कि जिंदगी में आगे बढ़ने के लिए लड़ते रहो। पत्‍‌नी अर्चना राज की ओर मुखातिब होकर मेरे मोटापे को कम कराने को उन्होंने कहा था। आठ वर्ष से यही सपना था कि केबीसी की हॉट सीट तक पहुंच सकें जो पूरा हो गया। इसके लिए सात प्रतिभागियों को पछाड़ा था। महज इंटर तक पढ़े श्याम की मोबाइल की दुकान है। पत्‍‌नी अर्चना ने स्नातक किया है। वह अभी प्ले स्कूल चला रही हैं। श्याम ने बताया कि उन्हें शूटिंग के लिए 24 जुलाई को मुंबई बुलाया गया था। इससे पूर्व आठ जून को केबीसी की टीम दुमका आई थी। उनके साथ केबीसी शो में जोड़ीदार के रूप में बैंककर्मी रवि रंजन थे। लाइफलाइन के लिए गुमला के डीसी शशि रंजन, श्रेया चौरसिया, डॉ. तुषार ज्योति को चुना था। इस दौरान पिता का जिक्र चला तो उनकी आंखें भर आईं। बताया कि पिता राम विलास चौरसिया ढाबा चलाते थे। उनका निधन हो चुका है। उनके निधन के बाद जीवन में काफी संघर्ष किया। अब श्याम मोबाइल की दुकान चला रहे हैं।

loading...



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति