20 साल के आरोपियों ने कई महिलाओं की ऐसे लूटी अस्मत



चेन्नई। तमिलनाडु सरकार ने पोल्लाची में हाल में महिलाओं के यौन उत्पीड़न तथा कई अन्य के साथ ब्लैकमेल की घटनाओं की जांच का जिम्मा केंद्रीय जांच ब्यूरो को सौंपने की गुरुवार को अनुशंसा की।  इस बीच, पल्लाची की घटना के लिए जिम्मेदार सभी लोगों पर कार्रवाई की मांग को लेकर पूरे राज्य में लगातार तीसरे दिन गुरूवार को भी विरोध-प्रदर्शन जारी रहा।   विपक्ष की ओर से दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करने की मांग तथा घटना को लेकर हंगामा बढ़ता देख पुलिस महानिदेशक टी. के. राजेंद्रन ने दो दिन पहले ही घटना की सीबी-सीआईडी से जांच कराने का आदेश दिया था।


आज जारी सरकारी आदेश के मुताबिक इस मामले की जांच अब सीबीआई को सौंपने का निर्णय लिया गया है।  इस मामले के मास्टरमाइंड तिरुनावुकरासु समेत चार आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। अन्य आरोपियों में शामिल सतीश, सबरीरंजन और वसंतकुमार भी गिरफ्तार हैं। सभी आरोपी 20 के आस-पास की उम्र के हैं तथा उन पर पोल्लाची की युवा महिलाओं के यौन उत्पीड़न का आरोप है।  आरोपी न केवल महिलाओं का शोषण करते थे, बल्कि अपनी करतूतों की वीडियो भी बनाते थे। आरोपियों से बरामद मोबाइल फोन में कम से कम 40 महिलाओं के अश्लील वीडियो बरामद हुए हैं।


अधिकांश महिलाओं की शिकायत है कि उन्हें ब्लैकमेल कर उनका शारीरिक शोषण किया गया।   पुलिस को संदेह है कि इस यौन शोषण कांड में कम से कम 15 लोग शामिल हैं। पुलिस अन्य लोगों की तलाश में विभिन्न स्थानों पर छापेमारी कर रही है।  गत 24 फरवरी को एक कार के भीतर कॉलेज छात्रा के साथ लोगों के एक समूह ने शारीरिक एवं यौन उत्पीड़न किया था। छात्रा की शिकायत के आधार पर पुलिस ने पोल्लाची पूर्वी थाने में विभिन्न धाराओं के तहत चार आरोपियों के विरुद्ध मामला दर्ज किया तथा गिरफ्तारी के बाद चारों को न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।   (छायाचित्र- वारदात के खिलाफ प्रदर्शन करती छात्राएं)

loading...



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति