विद्यासागर की प्रतिमा को लेकर बढ़ा बवाल, सड़क पर उतरे वामपंथी



कोलकाता





भाजपा अध्यक्ष अमित शाह  की मंगलवार को यहां चुनावी रैली के दौरान विद्यासागर कालेज हॉस्टल में  ईश्वरचंद्र विद्यासागर की प्रतिमा को खंडित किए जाने की घटना ने ज्वलंत रुख अख्तियार कर लिया है और वाम दलों के प्रमुख बड़े नेता इसके विरोध में  बुधवार को सड़कों पर उतर आए। इस बीच पुलिस ने तृणमूल कांग्रेस और  भाजपा के बीच हुई हिंसक झड़प को लेकर दो अलग-अलग मामला दर्ज करके 58 लोगों को  गिरफ्तार किया है। दोनों पक्षों के बीच झड़प में काफी लोग घायल भी हुए  हैं। वाम दलों के कद्दावर नेता प्रकाश करात, सीताराम येचुरी, सूर्यकांत मिश्र,  विमान बोस और सुजान चक्रवर्ती की अगुवाई में वाम मोर्चा कार्यकर्ताओं ने  कालेज स्कवायर से हेडुआ तक रैली निकाली और प्रदर्शन किया तथा घटना के पीछे  वास्तविक तथ्यों का पता लगाने की लिए संपूर्ण मामले की जांच की मांग की। वाम मोर्चा नेताओं ने इस घृणित घटना की तीखी ंिनदा करते हुए आरोप  लगाया कि एक सुनियोजित योजना के तहत प्रतिमा की तोड़फोड़ की गयी। उन्होंने  वास्तविक अपराधियों को कानून के शिकंजे में लाए जाने की मांग की। उन्होंने  चुनाव आयोग से भी प्रतिमा के साथ तोड़फोड़ करने वाले अपराधियों की जांच  करवाने की मांग की। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रतिमा तोड़े जाने के लिए भाजपा को दोषी ठहराया है। दूसरी ओर भाजपा अध्यक्ष शाह ने दावा किया कि ममता के इशारे पर तृणमूल कांग्रेस के नेताओं ने ही साजिश इस कांड को अंजाम दिया है। 

loading...



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति