इस नेता ने चलती ट्रेन में करायी थी भाजपा विधायक की हत्या



अहमदाबाद। गुजरात में पूर्व विधायक तथा प्रदेश भाजपा के पूर्व  उपाध्यक्ष जयंती भानुशाली (54) की चलती हुई ट्रेन के फर्स्ट एसी कोच में  हुई हत्या के मुख्य आरोपी और षड़यंत्रकर्ता एक अन्य पूर्व विधायक छबील पटेल  को पुलिस ने आज तड़के यहां सरदार वल्लभभाई पटेल अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने बताया कि हत्या का षड़यंत्र  रचने के बाद विदेश भाग गये पटेल ने पहले ही पुलिस को स्वदेश वापसी की  सूचना दे दी थी। कुछ ही दिन पहले उनके बेटे सिद्धार्थ ने भी समर्पण किया  था


वह आज तड़के लगभग तीन बजे जैसे ही अमीरात एयरलाइंस की एक उड़ान से यहां  उतरे, उन्हें पकड़ लिया गया। उनसे पूछताछ की जा रही है।  इस मामले में अब तक दोनो  शार्प शूटर समेत छह लोग पकड़े जा चुके हैं। हालांकि एक अन्य मुख्य  षडयंत्रकर्ता महिला मनीषा गोस्वामी अब तक फरार है। गत 24 जनवरी को  पुलिस ने यह खुलासा किया था कि हत्या का  षडयंत्र कांग्रेस से भाजपा में आये एक अन्य पूर्व विधायक छबील पटेल ने  भानुशाली से रंजिश रखने वाली  एक महिला के साथ मिल कर रचा था।


इसके बाद भाजपा ने पटेल को निष्कासित  कर दिया था। भानुशाली की गत सात-आठ जनवरी की दरम्यानी रात  को उस समय मोरबी जिले में चलती ट्रेन में गोली मार कर हत्या कर दी गयी थी, जब वे सयाजीनगरी एक्सप्रेस के एच 1 कोच में भुज से अहमदाबाद आ रहे थे। पटेल ने उनके ही जैसे भानुशाली के साथ गहरा अनबन रखने वाली मनीषा गोस्वामी नाम की महिला के साथ मिल कर इस हत्या का षडयंत्र रचा था।


पिछले साल नवंबर में पुणे में अपराधी सुरजीत भाऊ और उसके गिरोह के साथ पहले  इस बारे में योजना बनी और बाद में 25 दिसंबर से हत्या को अंजाम देने वाले  दोनो शार्प शूटर, जिनकी पहचान शशिकांत ऊर्फ दादा कांबले तथा शेख अशरफ अनवर  (दोनो निवासी येरवडा, पुणे) समेत अन्य पटेल के कच्छ स्थित फार्म हाऊस  पर ठहरे थे। वहां से भानुशाली की गतिविधियों पर नजर रखी गयी थी। पटेल स्वयं दो जनवरी को विदेश (मस्कट) चले गये। मनीषा तीन से छह  जनवरी तक कच्छ में थी फिर वह भी वहां से निकल गयी।


दोनो शूटर उक्त ट्रेन  में भचाऊ में चढ़े थे और एक रेलवे कर्मी से खुद को कन्फर्म टिकट धारक  यात्री बताया था। उन्होंने भानुशाली के केबिन को खुलवाया और उन्हें  गोली मार दी।  दोनो हत्यारों ने ट्रेन की जंजीर रात 12 बज  कर 55 मिनट पर सामखियाली के निकट खींच दी और वहां योजना के अनुरूप पहले से  मौजूद अपने गिरोह के अन्य सदस्यों के साथ पुणे की ओर रवाना हो गये। टॉल  नाके के सीसीटीवी फुटेज में उनकी गाड़ी देखी गयी थी। यह खुलासा पटेल  के गेस्ट हाऊस में ठहरे हत्यारों और अन्य की देखरेख के लिए नियुक्त भुज  निवासी दो लोगों नीतिन वी पटेल और राहुल जे पटेल की गिरफ्तारी और पूछताछ से  हुआ। दोनो हत्यारो को भी बाद में पकड़ लिया गया था। (छायाचित्र में बाएं से भानुशाली और पटेल)

loading...



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति