दिल्ली: संस्कार आश्रम से लापता लड़कियों का मामला गर्माया, भाजपा-कांग्रेस ने खोला मोर्चा



नई दिल्ली।  दिलशाद गार्डन संस्कार आश्रम से लापता 9 लड़कियों का मामला अब गरमाने लगा है। बीजेपी और कांग्रेस इस मामले में दिल्ली सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल चुकी हैं लेकिन लड़कियां शेल्टर होम से गायब कैसे हुईं और कहां चली गईं, इसे लेकर माथापच्ची चल रही है, क्योंकि सीसीटीवी में उनके बाहर जाने के फुटेज नहीं मिले हैं।  शुरूआती जांच में एक बात सामने आई है कि संस्कार आश्रम के बगल में डीडीए का ग्राउंड है, जहां पर बच्चे क्रिकेट खेलते हैं। इस दौरान जब उनकी बॉल संस्कार आश्रम के इस शेल्टर होम के भीतर चली जाती हैं, तो उसे लेने के लिए वे डीडीए की करीब तीन फुट की दीवार के सहारे फिर आश्रम की 11 फुट की दीवार पर चढ़ जाते हैं। दूसरी तरफ एक कूड़े दान है, जो संस्कार आश्रम की कांटेदार दीवार और पॉकेट 'ई' जीटीबी एन्क्लेव के दीवार के बीच में छूटे करीब 3 फुट के गलियारे में बना है। इस बीच में एक नाला भी बहता है और दोनों दीवारों के बीच का ये पूरा गलियारा जीटीबी हॉस्पिटल के नाले तक खाली है।  संस्कार आश्रम की दीवार के साथ बने इस घर की ऊंचाई करीब चार फुट है, जिसके ऊपर भी कांटेदार तार लगाए गए थे और फिलहाल वो हटे हुए हैं।


इसके ऊपर चढ़कर करीब 11 फुट ऊंचे आश्रम की दीवार पर चढ़ा जा सकता है, जहां के तार भी नीचे की तरफ झुके हैं और एक तार टूटा भी है। इसी दीवार के साथ डीडीए ग्राउंड की करीब तीन फुट की दीवार है, जिस पर संस्कार आश्रम की दीवार से लटककर नीचे आया जा सकता है। क्रिकेट खेलने वाले एक बच्चे ने बताया कि वो अपनी बॉल इसी तरह से भीतर से लाया करते हैं। पुलिस को भी यही आशंका है कि लड़कियां छत की तरफ से इसी रास्ते से भाग सकती हैं और उनको बच्चों के अंदर-बाहर कूदकर आने-जाने से ही यह आइडिया हुआ है। इस पूरे प्रकरण में कुछ बाहरी या अंदरूनी लोगों की मदद से भी इनकार नहीं किया जा सकता है। फिलहाल पुलिस फूंक-फूंककर कदम रख रही है और कुछ भी बोलने से बच रही है।  मोबाइल फोन होने की संभावना  संस्कार आश्रम के सूत्रों का मानना है कि लड़कियों के पास मोबाइल फोन जरूर होगा। वह अपने कमरे में किसी को भी नहीं घुसने देती थीं और सभी लड़कियां काफी आक्रामक थीं। तीन महीने तक जीटीबी हॉस्पिटल में जॉब करने के दौरान उनको सैलरी भी मिली। इस दौरान वो कई लोगों के संपर्क में भी आईं होंगी, इसलिए उनके पास मोबाइल फोन होने से इनकार नहीं किया जा सकता है।


एक महीने से ये लड़कियां नौकरी पर नहीं जा रही थीं और सैलरी नहीं मिलने से परेशान थीं। भागने की एक वजह यह भी हो सकती है।  बीजेपी ने दिया संस्कार आश्रम पर धरना  संस्कार आश्रम से गायब 9 लड़कियों के मामले में बीजेपी ने आक्रामक रवैया अख्तियार कर लिया है। लगातार दूसरे दिन बुधवार को आश्रम के बाहर प्रदर्शन कर इस मामले में कठोर कार्रवाई की मांग की, जो जिला नवीन शाहदरा के बैनर तले हुआ। इसमें इलाके के सभी निगम पार्षद, जिले के पदाधिकारियों और कार्यकतार्ओं ने दिल्ली सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। जिलाध्यक्ष कैलाश जैन, प्रदेश मीडिया विभाग के सह-प्रमुख आनंद त्रिवेदी, प्रदेश ई-ग्रंथालय प्रमुख डॉ. शोभा विजेंद्र, महिला मोर्चा जिलाध्यक्ष मधु सिसोदिया, पार्षद सुमन लता नागर, बीर सिंह पंवार, पुनीत शर्मा, पूर्व पार्षद सुनील झा ने संबोधित किया। मंच संचालन महामंत्री कर्मवीर चंदेल औरर मास्टर विनोद ने किया। इस दौरान दर्शन लाल, आशीष तिवारी, टीएस खन्ना, स्वाति गुप्ता, संगीत ढिकोलिया, प्रकाश रंजन, हरिओम, विश्वकर्मा, शेर बहादुर, धर्मबीर नागर, अंबिकेश पांडेय, राजकुमार श्रीवास्तव, मुकेश अरोड़ा, नीरज तिवारी, डॉ. मनीष समेत कई बीजेपी कार्यकर्ता मौजूद थे। 

loading...



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति