छत्तीसगढ़ पहुंचे पीएम, विपक्षी दलों पर बोला तीखा हमला, आम चुनाव से पहले एकजुट हो रहे विपक्ष को बताया ‘महामिलावट’



रायगढ़। छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में मिली हार के बाद पहली बार राज्य के दौरे पर गए प्रधानमंत्री ने विपक्षी दलों पर तीखा हमला बोला है। लोकसभा चुनाव से पहले एकजुट हो रहे विपक्ष को 'महामिलावट' बताया है और कहा है कि इसमें एंट्री का सिर्फ एक मानक है कि कौन मोदी को कितनी ज्यादा गाली दे सकता है। उन्होंने राज्य सरकार पर भी जनता विरोधी फैसले लेने और भ्रष्टाचार को छिपाने का आरोप लगाया।  पीएम ने कांग्रेस पर बिचौलियों और दलालों से मिलीभगत का आरोप लगाया और कहा कि उनके 'मामा-चाचा' को भारत लाकर जांच एजेंसियों के हवाले किया जा रहा है, इसलिए वे बौखला रहे हैं और ऐसे लोगों के साथ मिलावट करने की कोशिश कर रहे हैं।


उन्होंने कहा, 'इनमें आपस में होड़ लगी है कि कौन मोदी को ज्यादा से ज्यादा गाली देकर अपने नंबर बढ़ा ले। महामिलावट में एंट्री का एक ही क्राइटीरिया है, मोदी को ज्यादा गाली दे पाते हो तो एंट्री हो सकती है।' उन्होंने आरोप लगाया कि विपक्ष के पास कोई मुद्दा नहीं है और वे सुबह-शाम मोदी-मोदी करते हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि भ्रष्टाचार से घिरे हुए लोगों की कोई विचारधारा नहीं है और असली राजनीति यही है कि खुद भी भ्रष्टाचार करो और करने वाले का साथ दो, संरक्षण दो। पीएम ने कहा कि वे जितनी भी महामिलावट कर लें 'चौकीदार' चुप नहीं बैठेगा।


'नामदार परिवार में कोई जमानत-कोई अग्रिम जमानत पर बाहर' उन्होंने राज्य सरकार पर आरोप लगाया कि घोटाले-घपले की नीयत का नतीजा है कि सीबीआई जांच में अड़ंगा लगाया जा रहा है। उन्होंने कहा, 'वह अभी से ही अपने भ्रष्टाचार को छिपाने में लग गई है। दिल्ली से यही संस्कार विरासत में मिलते हैं। अगले चुनाव के लिए छत्तीसगढ़ को एटीएम बनाना है, सीबीआई बैठेगी तो एटीएम कैसे बनेगा।' गांधी परिवार की ओर इशारा करते हुए उन्होंने तंज कसा, 'कांग्रेस के नामदार परिवार के हर सदस्य के खिलाफ अदालतों में गंभीर मामले चल रहे हैं। टैक्स चोरी, जमीन -संपत्ति घोटाले के मामले चल रहे हैं। हालत यह है कि ज्यादातर सदस्य जमानत या अग्रिम जमानत पर बाहर हैं। कानून से बचने की उनकी कोशिशों के बीच चौकीदार अलर्ट है।' 

loading...



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति