जोड़ों के दर्द से है निजात दिलाएंगे ये आसान घरेलू टिप्स, हफ्ते भर में मिलेगी राहत



अर्थराइटिस या जोड़ो के दर्द की परेशानी हर तीसरे से चौथे इंसान में देखने को मिलती है। पहले यह बीमारी सिर्फ ज्यादा उम्र को लोगों में देखने को मिलती थी, लेकिन आज इससे कोई अछूता नहीं है। आज के समय में यह परेशानी नौजवानों में भी आम है। अगर आप भी इस परेशानी से जूझ रहे हैं तो आगे की स्लाइड्स में कुछ ऐसी चीजों के बारे में जानिए जिन्हें डाइट में शामिल कर आप इससे राहत पा सकते हैं। ब्रोकली ब्रोकली में ऐसे कई पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो जोड़ों की सेहत को लंबे समय तक बरकरार रखते हैं।


ब्रिटेन की यूनिवर्सिटी ऑफ ईस्ट एंजेलिया के शोधकर्ताओं के अनुसार, ब्रोकली में ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो गठिया से बचाने या बीमारी को बढ़ने से रोकने में सक्षम है। इसमें मौजूद कैल्शियम, कार्बोहाईड्रेट, प्रोटीन, आयरन, विटामिन ए और सी, क्रोमियम, हमारे शरीर को हैल्दी रखने का काम करता है। लहसुन अर्थराइटिस रोगियों को अपनी डायट में हर दिन लहसुन को शामिल करना चाहिए। इसके सेवन से उन्हें काफी फायदा होता है। इसमे पाये जाने वाले एंटी बैक्टीरियल, एंटीफंगल, एंटी बायोटिक और एंटी इंफ्लेमेट्री गुण जोड़ों के दर्द से छुटकारा दिलाने में मददगार है।


बथुआ अर्थराइटिस से राहत पाने के लिए बथुआ के पत्तों का रस वरदान समान है। अपनी डाइट में बथुआ को तो शामिल करें ही, इसके साथ ही रोजाना इसके पत्तों का रस भी पीएं। ध्यान रखें रस में स्वाद के लिए कुछ नहीं मिलाए। कम से कम तीन महीने तक इसका सेवन करें। हल्दी हल्दी में करक्यूमिन नामक तत्व होता है, जो बीमारी फैलने वाले बैक्टिरियां को खत्म करने का काम करता है। इसलिए गठिया के दर्द के मरीजों को इसका सेवन जरूर करना चाहिए। साथ ही इसके खाने से आपको दर्द में भी राहत मिलती है। ओमेगा-3 एसिड अर्थराइटिस से छुटकारा पाने के लिए ओमेगा-3 फैटी एसिड को डाइट में शामिल करना चाहिए। इसके लिए आपको एल्गी ऑयल, फिश ऑयल, सैमन मछली को अपनी डाइट में शामिल करना होगा। बरतें ये सावधानियां -टहलना बंद ना करें -व्यायाम करना न छोड़ें -वसायुक्त भोजन का इस्तेमाल न करें -फास्ट फूड और डिब्बाबंद खाना खाने से बचें

loading...



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति