होम सरकार
congress-another-new-claim-rahul-gandhis-letter-to

कांग्रेस एक और नया दावं, न्याय का वादा करते हुए 10 करोड़ परिवारों को राहुल गांधी का खत

कांग्रेस के एक सीनियर नेता ने बताया कि चुनाव प्रचार के अंतिम दौर में जानबूझकर इस लेटर को भेजा गया है। उनका तर्क है कि अगर बहुत पहले इसे भेजा जाता तो शायद वोटिंग आते-आते मन में उतनी तरोताजा नहीं हो। सबसे पहले 23 अप्रैल को तीसरे चरण में होने वाले चुनाव वाले इलाकों में इस खत को दो दिनों के अंदर हर घर तक पहुंचाया जा रहा है। इनमें गुजरात की 26 सीटें भी शामिल हैं जहां तीसरे चरण में चुनाव हो रहा है। यह खत हर टारगेट घर तक पहुंचे, इसके लिए कांग्रेस कार्यकतार्ओं के अलावा एनएसयूआई और यूथ कांग्रेस के वर्करों को भी शामिल किया गया है। कांग्रेस नेताओं के अनुसार इससे पार्टी को दोहरा लाभ हो रहा है। न्याय के वादे को सीधे घर तक पहुंचाया जा रहा है वहीं घर-घर जनसपंर्क भी इससे हो जा रहा है और पार्टी इससे फीडबैक भी ले रही है।  आगे पढ़ें

rahuls-tire-attack-on-modi-said-lie-at-pms-rally-w

राहुल ने मोदी पर तीखा हमला, कहा- पीएम की रैली में झूठ सुनने को मिलेगा, जबकि मेरी रैली में सच्चाई

सभा में राहुल गांधी ने यह भी कहा कि उनकी सरकार बनने पर वह राफेल डील की जांच भी कराएंगे और उसमें कोई भी बच नहीं सकेगा। राहुल गांधी ने कहा, 'जैसे ही अनिल अंबानी का पैसा आएगा वैसे ही गरीबों को भेज दिया जाएगा। हिंदुस्तान की फैक्ट्रियां काम करना शुरू करेंगी तो लोगों को रोजगार मिलना शुरू हो जाएगा। इसीलिए हमने इस योजना का नाम 'न्याय' रखा है। कांग्रेस की सरकार बनते ही हम कानून में बदलाव करेंगे। हिंदुस्तान का कोई भी किसान कर्ज न लौटाने की वजह से जेल में नहीं डाला जा सकेगा।'  आगे पढ़ें

gujarat-high-court-questions-on-auto-drivers-quest

आटो ड्राइवर की अर्जी पर गुजरात हाईकोर्ट का राज्य सरकार से सवाल- किसी को क्यों नहीं मिल सकता नास्तिक का दर्जा?

उपाध्याय ने कोर्ट को बताया था कि उनका जन्म एक हिंदू गरोडा ब्राह्मण परिवार में हुआ था, जिससे वह अनुसूचित जाति में आते थे। उन्होंने दावा किया है कि उन्होंने पूरी जिंदगी जातिगत भेदभाव झेला है जिस वजह से वह धर्म छोड़ना चाहते हैं। उपाध्याय ने हाईकोर्ट से यह अफील भी की है कि राज्य सरकार को धर्म की आजादी कानूनी में संशोधन करने के निर्देश दिए जाएं। इस कानून के तहत किसी भी नागरिक को अपना धर्म बदलने के लिए जिला कलेक्टर से इजाजत लेना जरूरी होता है। साल 2003 में गुजरात सरकार ने एक कानून लाकर धर्म बदलने के लिए राज्य अधिकारियों ने इजाजत लेना जरूरी कर दिया था।  आगे पढ़ें

jaitleys-claim-will-be-very-startling-results-of-w

जेटली का दावा: कहा- बेहद चौंकाने वाले होंगे पश्चिम बंगाल और ओडिशा के परिणाम

वहीं बीजेपी के मीडिया प्रभारी और राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने कहा कि गुरुवार को पश्चिम बंगाल की जिन 5 सीटों पर वोटिंग हुई, उनमें से 4 सीटें बीजेपी जीतेगी। साथ ही उन्होंने दावा किया कि तृणमूल कांग्रेस बीजेपी के पक्ष में बहती हवा को देख आवेश में आ गई और उसके कार्यकर्ता बीजेपी के कैडर्स के प्रति हिंसक हो गए। बलूनी ने आगे कहा, 'उत्तर प्रदेश और बिहार जैसे राज्यों में जहां हम 2014 का इतिहास दोहरा रहे हैं वहीं पश्चिम बंगाल और पूर्वोत्तर में भी काफी लोकप्रिय हो रहे हैं। आज की पोलिंग का रुझान बीजेपी की तरफ है और इसके परिणाम चुनावी पंडितों को भी चौंका देंगे।'  आगे पढ़ें

pprc-claims-the-central-government-has-succeeded-i

पीपीआरसी का दावा: केन्द्र सरकार ने प्रतिवर्ष 1.5 करोड़ से अधिक नौकरियां सृजित करने में सफल रही

दूसरी रिपोर्ट में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस (21 जून), युद्ध स्मारक, स्टैच्यू आॅफ यूनिटी, अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन व कुंभ को संस्कृति और परंपराओं को बढ़ावा देने वाले कारकों में गिना गया। इस मौके पर देश के मिशन शक्ति पर एक विस्तृत जानकारी वाला मोनोग्राफ भी जारी किया गया। कार्यक्रम के दौरान रिसर्च टीम के सदस्य वीरेंद्र सचदेवा व अन्य लोग भी मौजूद रहे।  आगे पढ़ें

state-government-cm-resentful-of-power-cuts-resent

बिजली कटौती से घबराई प्रदेश सरकार, सीएम ने दिखाई नाराजगी, विभागीय अफसरों से मांगा जवाब

चंबल-ग्वालियर के चार जिले श्योपुर, मुरैना, ग्वालियर, दतिया में तो 15 घंटे तक बिजली काटी गई। बिजली कंपनियों का मानना है कि ग्वालियर जिले में 1 लाख 48 हजार मीटर खराब हैं, जिनसे रीडिंग नहीं हो पा रही है। ऐसे हालात में बिजली कटौती के अलावा कंपनी के पास कोई विकल्प नहीं है। इधर, अपर मुख्य सचिव आईसीपी केसरी ने मंगलवार को सभी जिलों के अधीक्षण यंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग भी की है।  आगे पढ़ें

modi-said-in-the-election-meeting-said-pakistan-wi

चुनावी सभा में बोले मोदी, कहा- पाक ने अब गलती की तो लेने के देने पड़ जाएंगे

मोदी ने कठुआ कहा, वे पूरे देश में प्रचार कर रहे हैं और देख रहे हैं कि इस बार भाजपा की लहर 2014 से भी बड़ी है। उन्होंने उन सर्वे का भी जिक्र किया जो भाजपा को कांग्रेस से तीन गुना सीटें मिलने का दावा कर रहे हैं। बकौल मोदी, कांग्रेस ने हमेशा सेना का अपमान किया। ऐसी कांग्रेस से सतर्क रहने की जरूरत है। उसका ध्यान सिर्फ मलाई खाने पर टिका है। मोदी ने यह भी कहा कि यह नए भारत की सरकार है, जो पाकिस्तान से डरती नहीं है। घर में घुसकर मारती है। पीएम ने नेशनल कॉन्फ्रेंस पर भी निशाना साधा। बोले- इस पार्टी के नेता कश्मीर को देश से अलग करने की धमकी दे रहे हैं, अलग प्रधानमंत्री की धमकी दे रहे हैं। इससे पहले पाकिस्तान भी न्यूक्लियर बम की धमकी देता था। अब उसकी धमकी की हवा निकल गई है। कश्मीर के ऐसे नेताओं की भी हवा निकल जाएगी।  आगे पढ़ें

shivraj-spoke-on-the-streets-of-bjp-falling-in-pro

कमलनाथ सरकार के विरोध में भाजपाई उतरे सड़कों पर, शिवराज बोले- कांग्रेस ने गरीबों का कफन भी छीन लिया

इस मौके पर शिवराज ने प्रदेश की कमलनाथ सरकार और कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष राहुल गांधी पर जमकर हमला बोला। शिवराज ने कहा कि कांग्रेस की कमलनाथ सरकार ने जो जो वादे किए थे 100 दिन बीत जाने के बाद भी पूरा नहीं किया। किसानों का कर्जा 10 दिन के अंदर माफ करने की बात की गई थी जिसे अभी तक पूरा नहीं किया जा सका।शिवराज ने कहा कि किसानों का कर्ज 48 हजार करोड़ , बजट का प्रावधान 5 हजार करोड़ और बैंको को दिए 1300 करोड़ पैसा ना धैला और भोजपुर का मैला।  आगे पढ़ें

former-lieutenant-general-bare-modi-government-sho

पूर्व लेफ्टिीनेंट जनरल बोले- मोदी सरकार ने सेना को सीमा पार हमले की अनुमति देकर बड़ा संकल्प दिखाया

लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) डी एस हुड्डा ने शुक्रवार को कहा कि मोदी सरकार ने सेना को सीमा पार हमले करने की अनुमति देने में बहुत बड़ा संकल्प दिखाया है, लेकिन सेना के हाथ उससे पहले भी बंधे हुए नहीं थे। हुड्डा यहां विज्ञापन संगठनों द्वारा आयोजित एक वार्षिक कार्यक्रम 'गोवा फेस्ट' में बोल रहे थे। उनका यह बयान ऐसे समय में आया है जब पीएम मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार ने पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद यह कहा था कि जवाबी कार्रवाई के लिए सेना को खुली छूट दी गई है। हमला कब, कहां और कैसे करना है यह सेना तय करेगी।  आगे पढ़ें

madhya-pradesh-government-pays-6-thousand-crores-o

मध्यप्रदेश: बिजली कंपनी के रिकार्ड में आधू मजदूरों के, 6 हजार करोड़ का बिल चुकाती है सरकार

ऐसे उपभोक्ता जिनके पास मजदूरी कार्ड है। घर का लोड 1 हजार वाट है। उसे 200 रुपए प्रति महीने के हिसाब से बिजली दी जाएगी। समाधान योजना में कोई शर्त नहीं है। मजदूरी कार्ड के आधार पर बिल बकाया माफ किया जाएगा। जिसके चलते सालों से डिफॉल्टर चले आ रहे लोगों का लाखों रुपए का बिल माफ हो गया। माफी के बाद सरल योजना के तहत 200 रुपए में बिजली भी ले ली। राज्य में सरकार बदलने के बाद सरल व समाधान योजना का नाम बदलकर इंदिरा गृह ज्योति योजना कर दिया है। 2 जुलाई 2018 से 11 अप्रैल 2019 तक 74 लाख 37 हजार उपभोक्ताओं को इस योजना से लाभ मिला है। प्रदेश के 52 जिलों में 9 महीन में यह लाभ मिला है।  आगे पढ़ें

Previous 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10  ... Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति