होम संसद
sadhna-singh-from-vidisha-to-start-the-election-su

विदिशा से साधना सिंह को चुनाव लड़ाने के लिए समर्थकों ने शुरू लॉबिंग, सुषमा-राजनाथ से मिले

भाजपा केंद्रीय नेतृत्व के सूत्र बताते हैं कि सुषमा स्वराज के चुनाव लड़ने से इनकार करने के बाद विदिशा जैसी आसान सीट पर किसी वरिष्ठ नेता को मैदान में उतारा जाएगा। यह बाहरी भी हो सकता है। इसका कारण यह है कि मध्यप्रदेश की विदिशा सीट से ज्यादा आसान सीट भाजपा के पास दूसरी नहीं है। यह सीट भाजपा का गढ़ है। साधना की दावेदारी जताने का मामला पहली बार नहीं हुआ है। इसके पहले भी 2006 के उपचुनाव, 2009 और 2014 में भी शिव समर्थक साधना सिंह को टिकट दिलाने के लिए जोर लगाते रहे हैं।  आगे पढ़ें

sharad-pawars-big-statement-speak-bjp-will-be-the-

शरद पवार का बड़ा बयान: बोले- भाजपा होगी सबसे बड़ी पार्टी, पर मोदी नहीं बनेंगे पीएम

पवार ने कहा, बीजेपी संसदीय चुनावों में सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभर सकती है और उसे सहयोगी दलों (सरकार बनाने के लिए) की जरूरत होगी। इस परिदृश्य में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दूसरा अवसर मिलने की संभावना नहीं है। शरद पवार ने कहा कि अगर बीजेपी को दूसरे दलों से सहयोग की जरूरत होती है तो दूसरी पार्टियां किसी और को प्रधानमंत्री बनाना चाहेंगी। इससे पहले 20 फरवरी को पवार ने कहा था कि वह चुनाव लड़ेंगे लेकिन बाद में उन्होंने कहा, जब परिवार के दो सदस्य चुनावी मैदान में हैं तो मेरे लिए यह अच्छा मौका है कि आराम करूं। बता दें कि महाराष्ट्र में एनसीपी कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ रही है।  आगे पढ़ें

rafael-deal-cag-report-is-different-from-claims-of

राफेल डील: मोदी सरकार और कांग्रेस के दावों से अलग है कैग की रिपोर्ट

2007 में यूपीए ने 126 नए एयरक्राफ्ट का सौदा किया था जिनमें से 18 उड़ने की स्थिति में मिलने थे और बाकी 108 विमान एचएएल के सहयोग से बनाए जाने थे। हालांकि एनडीए सरकार ने 36 राफेल विमानों का सौदा किया, जो फ्रांस की कंपनी दसॉ से ही मिलने हैं। विपक्ष इस बात को लेकर आक्रामक होता रहा है कि सरकार एक तरफ मेक इन इंडिया की बात करती है वहीं, दूसरी तरफ सभी विमानों की खरीद विदेशी कंपनी से कर रही है।  आगे पढ़ें

raphel-deel-par-ghamasan-jari-vipaksh-ne-sansad-pa

राफेल डील पर घमासान जारी, विपक्ष ने संसद परिसर में किया विरोध प्रदर्शन, सोनिया-मनमोहन भी हुए शामिल

बता दें कि राफेल डील पर सीएजी रिपोर्ट बुधवार को संसद में पेश हुई है। इसको लेकर विपक्ष का विरोध प्रदर्शन हो रहा है। प्रदर्शन कर रहे प्रमुख दलों में कांग्रेस और टीएमसी शामिल हैं। संसद के बाहर हुए प्रदर्शन में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी भी शामिल हुईं। कांग्रेस के सीनियर नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और के सी वेणुगोपाल भी राहुल के साथ चर्चा करते दिखे। वहीं विरोध कर रहे टीएमसी सांसद काले कपड़े पहनकर पहुंचे थे।  आगे पढ़ें

afael-controversy-cag-can-submit-its-report-to-the

राफेल विवाद: कैग ने राष्ट्रपति को भेजी अपनी रिपोर्ट, सरकार आज संसद में कर सकती है पेश

कैग की यह रिपोर्ट काफी लंबी है, जिसे प्रोटोकॉल के तहत सबसे पहले राष्ट्रपति के पास भेजा गया है। अब राष्ट्रपति भवन की ओर से कैग रिपोर्ट लोकसभा स्पीकर के आफिस और राज्यसभा चेयरमैन के आॅफिस को भेजी जाएगी। सूत्रों ने बताया है कि सरकार कैग की रिपोर्ट मंगलवार को संसद में रखेगी। मौजूदा 16वीं लोकसभा का वर्तमान सत्र बुधवार को समाप्त हो रहा है और यह इसका आखिरी सत्र है। अप्रैल-मई में आम चुनाव के बाद 17वीं लोकसभा का गठन होगा।  आगे पढ़ें

priyadarshani-raje-ko-guna-se-lokasabha-chunav-lad

प्रियदर्शनी राजे को गुना से लोकसभा चुनाव लड़ाने की उठी मांग, कार्यकर्ताओं ने की बैठक

प्रियदर्शनी सिंधिया को लोकसभा चुनाव में प्रत्याशी बनाने के लिए गुना जिला कांग्रेस पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने एक बैठक भी आयोजित की। बैठक में गुना कांग्रेस के नेताओं ने प्रस्ताव रखा कि पार्टी ने सिंधिया को उत्तरप्रदेश की जिम्मेदारी दे दी है। ऐसे में हो सकता है कि पार्टी ज्योतिरादित्य सिंधिया को उनकी गृह सीट गुना के बजाय किसी अन्य सीट से लोकसभा चुनाव में प्रत्याशी बना दे।  आगे पढ़ें

ram-mandir-ke-lie-dharm-sansad-mein-saadhu-santon-

राम मंदिर के लिए धर्म संसद में साधु-संतों ने बुलंद की आवाज, भागवत से मिले योगी

दो दिन तक चलने वाली धर्म संसद में देशभर के तकरीबन 5,000 साधु-संत जुट रहे हैं। वीएचपी ने इसके लिए बड़े पैमाने पर तैयारियां की हैं। इस आयोजन में वीएचपी और संघ के बड़े पदाधिकारी भी पहुंच रहे हैं। वीएचपी के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार और अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष विष्णु सदाशिव कोकजे समेत वीएचपी की पूरी कार्यकारिणी कुंभ में मौजूद है। आरएसएस प्रमुख के अलावा भैयाजी जोशी और दत्तात्रेय होसबोले भी धर्म संसद में शिरकत कर रहे हैं। इस बीच झूंसी स्थित आरएसएस के कार्यालय में सरसंघचालक मोहन भागवत और सीएम योगी आदित्यनाथ के बीच मुलाकात हुई है।  आगे पढ़ें

prayagaraj-mein-santon-ne-dharm-sansad-mein-kiya-a

प्रयागराज में संतों ने धर्म संसद में किया ऐलान, कहा- 21 फरवरी से बनेगा राम मंदिर

पीएम मोदी के इंटरव्यू का जिक्र करते हुए विज्ञप्ति में कहा गया, 'पीएम मोदी ने अपने साक्षात्कार में कहा है कि न्याय की प्रक्रिया पूरी होने के बाद जब उनकी बारी आएगी तो वह अपनी भूमिका निभाएंगे। वह अपने वचन पर स्थिर नहीं रह सके और उन्होंने रामजन्मभूमि विवाद की न्याय प्रक्रिया में हस्तक्षेप करते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करवाई है, जिसमें गैर-विवादित जमीन को उसके मालिकों को लौटाने की बात कही गई है। याचिका में कहा गया है कि 48 एकड़ भूमि रामजन्मभूमि न्यास की है जबकि सच्चाई यह है कि एक एकड़ भूमि के अलावा सारी जमीन उत्तर प्रदेश सरकार की है, जो रामायण पार्क के लिए अधिगृहीत की गई थी।'  आगे पढ़ें

ram-mandir-ke-lie-prayagaraj-mein-vihip-kee-dharm-

राम मंदिर के लिए प्रयागराज में विहिप की धर्म संसद में शामिल होंगे 5000 हजार संत

वीएचपी के उपाध्यक्ष और केंद्रीय मार्गदर्शक मंडल के संयोजक जीवेश्वर मिश्र ने बताया कि राम मंदिर को लेकर वीएचपी की अब तक की सबसे बड़ी धर्म संसद कुंभ मेले में होने जा रही है। ऐसा प्रयास किया जा रहा है कि धर्म संसद में देश के हर जिले की नुमाइंदगी हो। यही नहीं, विदेश में रह रहे संतों को भी आमंत्रित किया गया है। वनवासी क्षेत्रों से लेकर कश्मीर, उत्तराखंड और केरल-तमिलनाडु के संतों को भी इसमें आमंत्रित किया गया है। वीएचपी की कोशिश राम मंदिर पर पूरे देश के संतों को एक मंच पर लाना है ताकि उनसे ऐसा मार्गदर्शन मिले जो आगामी आंदोलन का रास्ता तय कर सके।  आगे पढ़ें

the-future-of-shivraj

राज शिवराज के भविष्य का

विपक्षी महागठबंधन का दांव सही पड़ा तो छप्पन इंच का सीना महज पांच साल में अतीत की बात हो जाएगा। ऐसा हुआ तो शिवराज को ताकत मिलेगी। किंतु ऐसा नहीं हुआ तो जाग के फिर सो जाता हूं, वाली पंक्ति तो जाफरी लिख ही गये हैं। हां, एक बात और बता दें। जाफरी ने इसी नज्म में एक जगह लिखा है, हर चीज भुला दी जाएगी, यादों के हसीं बुतखाने (मंदिर) से, हर चीज उठा दी जाएगी। फिर कोई नहीं ये पूछेगा, सरदार कहां है महफिल में ? यह शिवराज के लिए हमारी अपेक्षा नहीं है, लेकिन सियासत में विपरीत समय किसी भी दशा से साक्षात्कार करवा सकता है। फिर शिवराज को तो भाजपा में वीरेंद्र कुमार सखलेचा, उमा भारती सहित लालकृष्ण आडवाणी, मुरलीमनोहर जोशी तथा जसवंत सिंह आदि-आदि का उदाहरण याद होगा ही। नहीं? read more  आगे पढ़ें

Previous 1 2 Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति