होम लोकसभा चुनाव
scindia-approaches-gwalior-on-low-maiden-meeting-c

अल्प प्रवास पर ग्वालियर आए सिंधिया ने बुलाई बैठक, प्रियदर्शिनी के नाम का प्रस्ताव पारित

सांसद सिंधिया शताब्दी एक्सप्रेस से आए। स्टेशन से ही उनकी गाड़ी में मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, इमरती देवी, लाखन सिंह यादव, शहर जिलाध्यक्ष देवेन्द्र शर्मा, ग्रामीण अध्यक्ष मोहन सिंह राठौर, पूर्व विधायक रमेश अग्रवाल बैठे। बताया जाता है कि गाड़ी में ही तय हो गया था कि कांग्रेस कार्यालय में बैठक बुलाकर प्रियदर्शिनी राजे के नाम का प्रस्ताव पारित किया जाए। इसके बाद शहर जिलाध्यक्ष डॉ. शर्मा ने दोपहर 2:30 बजे कांग्रेस कार्यालय में बैठक करने की सूचना जारी कर दी। सिंधिया पौने एक बजे कोलारस रवाना हो गए और इधर कांग्रेस कार्यालय में प्रियदर्शिनी के लिए प्रस्ताव पारित हो गया। अचानक हुए इस घटनाक्रम के अलग-अलग अर्थ निकाले जा रहे हैं।  आगे पढ़ें

some-days-remaining-for-the-start-of-lok-sabha-ele

लोकसभा चुनाव की शुरुआत होने में कुछ दिन शेष, कई सीटों पर होगा कांटे का मुकाबला

लोकसभा चुनाव की शुरूआत में अब चंद रोज ही बाकी रह गए हैं। 7 चरणों में होने वाले चुनाव के लिए भाजपा और कांग्रेस ने आधे से ज्यादा सीटों पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है। इसके साथ ही क्षेत्रीय पार्टियां भी अपने अपने ज्यादातर उम्मीदवारों की घोषणा कर चुकी हैं। राजनीतिक दलों द्वारा अपने अपने प्रत्याशियों की घोषणा के बाद कई महत्वपूर्ण सीटों पर होने वाले मुकाबले की स्थिति पूरी तरह से साफ हो गई है। हिंदीभाषी इलाकों में कई सीटों पर कांटे की टक्कर फिलहाल नजर आ रही है।  आगे पढ़ें

sukhe-kuen-mein-utarate-digvijay-ke-jokhim

सूखे कुएं में उतरते दिग्विजय के जोखिम

सच कहा जाए तो सन 1989 में रिटायर्ड नौकरशाह सुशील चंद्र वर्मा के हाथों केएन प्रधान की शिकस्त से शुरू हुए इस सिलसिले के बाद कांग्रेस ने धीरे-धीरे इस सीट को अपने लिए किसी ऐसे सूखे कुएं के तौर पर ही मान लिया। जिसके भीतर उसके लिए पराजय रूपी जहरीला नाग कुंडली जमाये बैठा है। साजिद अली, कैलाश कुण्डल अग्निहोत्री, सुरेंद्र सिंह ठाकुर और पीसी शर्मा जैसे नाम तो इस कुएं में महज सांप की फुंफकार सुनने के उपक्रम के तौर पर पत्थर की तरह फेंके गये। हर बार फुंफकार बाहर आयी और कांग्रेस इस डर से ग्रस्त रही कि वहां सांप अब भी मौजूद है। उसने इस ‘डर के आगे जीत है’ वाला उपक्रम तक करने की नहीं सोची। लेकिन अब कहीं जाकर ‘बाल स्मृति’ के लेखक जैसा कोई पात्र इस दल की ओर से इस कुएं में उतरने को तैयार नजर आया है।  आगे पढ़ें

the-angry-shahnawaj-nitishs-party-told-after-the-t

टिकट कटने के बाद नाराज हुए शाहनवाज, नीतीश की पार्टी को बताया जिम्मेदार

बीजेपी प्रवक्ता ने शनिवार को टिकट कटने के बाद एक के बाद एक कई ट्वीट करके अपनी नाराजगी जाहिर की। शाहनवाज ने ट्वीट में लिखा, 'इस बार मैं भागलपुर से नहीं लड़ पाऊंगा। सूबे में इस बार बीजेपी के 6 वर्तमान सांसदों की सीटें एनडीए सहयोगी के तौर पर नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू के हिस्से में गई हैं। इसके बावजूद मैं लोकसभा चुनाव में पार्टी की जीत के लिए कड़ी मेहनत करूंगा।' इसके साथ ही शाहनवाज ने एक अलग ट्वीट में भागलपुर के लोगों से वादा किया है कि वह भले ही यहां से चुनाव नहीं लड़ रहे लेकिन यहां की जनता और उनके हितों के लिए हमेशा उनके साथ खड़े रहेंगे।  आगे पढ़ें

bjp-has-declared-286-candidates-so-far-narendra-si

भाजपा ने अब तक 286 उम्मीदवारों का किया ऐलान, नरेन्द्र सिंह तोमर को मुरैना से उतारा मैदान में

बीजेपी ने शनिवार दोपहर में एक और लिस्ट जारी की थी। उसमें तेलंगाना के 6, यूपी के 3, केरल और पश्चिम बंगाल से एक-एक उम्मीदवारों के नाम शामिल थे। खास बात यह है कि यूपी की कैराना सीट से दिवंगत बीजेपी नेता हुकुम सिंह की बेटी मृगांका का टिकट काटकर प्रदीप चौधरी पर दांव खेला है। हुकुम सिंह की मौत के बाद हुए उपचुनाव में बीजेपी ने उनकी बेटी मृगांका को चुनाव मैदान में उतारा था लेकिन वह हार गईं थीं।  आगे पढ़ें

congress-announces-nine-candidates-from-madhya-pra

मध्यप्रदेश से कांग्रेस ने की 9 उम्मीदवारों की घोषणा, भोपाल से दिग्गी होंगे मैदान में

विधानसभा चुनाव में हारे पूर्व विधायक मधु भगत को बालाघाट से प्रत्याशी बनाया है। भगत, कमलनाथ के निकट हैं। वहीं, भाजपा से विधायक रहीं प्रमिला सिंह को भी शहडोल की अनुसूचित जनजाति सीट से प्रत्याशी बनाया है। प्रमिला सिंह के पति आईएएस हैं और उन्हें पिछले दिनों ही चुनाव आयोग के निर्देश पर कलेक्टरी से हटाया गया है। इसके अलावा एक विधायक विक्रम सिंह नातीराजा की पत्नी कविता सिंह को खजुराहो लोकसभा सीट से प्रत्याशी बनाया है। नातीराजा मंत्री नहीं बनाए जाने से नाराज चल रहे थे। उनकी नाराजगी को दूर करने का प्रयास किया गया है। वहीं होशंगाबाद से शैलेंद्र दीवान को प्रत्याशी बनाया है। दीवान पूर्व मंत्री चंद्रभान सिंह दीवान के पुत्र हैं।  आगे पढ़ें

pm-modi-and-rahul-can-fight-two-two-seats-the-mark

पीएम मोदी और राहुल लड़ सकते हैं दो-दो सीटों से चुनाव, चर्चाओं का बाजार गर्म

भाजपा ने अपनी पहली ही लिस्ट में साफ कर दिया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर वाराणसी सीट से लड़ेंगे। वहीं कर्नाटक में चर्चा है कि मोदी यहां की एक सीट से भी पर्चा भरेंगे। यह सीट है बेंगलुरू दक्षिण। कांग्रेस को भी इस बात के संकेत मिले हैं, इसीलिए उनसे इस सीट पर अपने प्रत्याशी का ऐलान नहीं किया है। स्थानीय नेता तो यही मान रहे हैं कि यहां से दोनों पार्टियां किसी चौंकाने वाले प्रत्याशी को मैदान में उतारेंगी।  आगे पढ़ें

bjp-legend-gopal-bhargavas-son-backtracked-for-the

भाजपा के दिग्गज नेता गोपाल भार्गव के बेटे ने वापस ली टिकट की दावेदारी, बताई ये वजह

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीस मार्च को वंशवाद को लेकर एक ब्लॉग लिखा था। जिसमें उन्होंने राजनीति में वंशवाद पर निशाना साधा था। सवाल कांग्रेस में स्थापित वंशवाद को लेकर था। इस ब्लॉग में उन्होंने यूपीए सरकार को लेकर भी सवाल खड़े किए थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए लिखा कि, विपक्षी पार्टी संसद, न्यायपालिका, मीडिया और सशस्त्र बलों सहित संस्थाओं का अपमान करने में विश्वास रखती है, जबकि ठऊअ सरकार के लिए देश की संस्थाएं सबसे ऊपर है।  आगे पढ़ें

split-seats-in-bihar-between-rashtriya-swayamsevak

बिहार में महागठबंधन के बीच हुआ सीटों का बंटवारा, आरजेडी को 20 और कांग्रेस को मिली 9 सीटें

महागठबंधन में बिहार की 40 लोकसभा सीटों में आरजेडी को 20, कांग्रेस को 9, राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (आरएलएसपी) को 5, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) को 3, वीआईपी को3 और सीपीआईएमएल को आरजेडी कोटे से एक सीट दी गई है। इनमें संसदीय क्षेत्र गया से हिंदुस्तान आवाम मोर्चा के जीतन राम मांझी चुनावी मैदान में उतर रहे हैं। नवादा में आरजेडी की ओर से विभा देवी को उम्मीदवार बनाया गया है। जमुई लोकसभा सीट से आरएलएसपी के भूदेव चौधरी को प्रत्याशी घोषित किया गया है। इनके इतर औरंगाबाद से हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के उम्मीदवार उपेंद्र प्रसाद को टिकट दिया गया है।  आगे पढ़ें

Previous 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10  ... Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति