होम लोकसभा चुनाव
dillee-mein-aap-congress-mein-gathabandhan-nahin-h

दिल्ली में आप -कांग्रेस में गठबंधन नहीं होने से होगा त्रिकोणीय मुकाबला, भाजपा को मिलेगा फायादा

2015 के विधानसभा चुनाव में आप को 54 फीसदी वोट मिले थे। हालांकि, 2017 के नगर निगम चुनाव में आप का वोट प्रतिशत घटकर 26% पहुंच गया जबकि बीजेपी को 37% वोट मिले थे। वहीं, कांग्रेस वोट प्रतिशत 10 फीसदी से बढ़कर 21 प्रतिशत हो गया था। अगर आप और कांग्रेस मिलकर चुनाव लड़ते तो बीजेपी के लिए मुश्किल स्थिति पैदा हो जाती।  आगे पढ़ें

amerika-mein-ilaaj-kara-rahe-vittamantree-ne-blog-

अमेरिका में इलाज करा रहे वित्तमंत्री ने ब्लॉग के जरिए विपक्ष पर साधा निशाना

कांग्रेस पर निशाना साधते हुए जेटली ने लिखा, 'कुछ लोग हमारे राजनीतिक व्यवस्था में ऐसे हैं जिन्हें लगता है कि उनका जन्म ही शासन के लिए हुआ है। कुछ ऐसे लोग हैं जो लेफ्ट या अल्ट्रा लेफ्ट की विचारधारा से प्रभावित हैं, उनके लिए एनडीए सरकार यूं भी पूरी तरह से स्वीकार नहीं करने लायक है। इस बीच एक दूसरा वर्ग भी सामने आया है, जिनका काम बस लगातार दुष्प्रचार चलाना है।'  आगे पढ़ें

madhyapradesh-hare-hue-netaon-ke-bhaajapa-ko-bharo

मध्यप्रदेश: हारे हुए नेताओं पर भाजपा को भरोसा, सौंप दी लोकसभा चुनाव की जिम्मेदारी

भारतीय जनता पार्टी ने लोकसभा चुनाव की तैयारियों के लिए जिन नेताओं को बागडोर सौंपी है, उनमें से कई विधानसभा चुनाव हार चुके हैं। भोपाल लोकसभा में उमाशंकर गुप्ता, जसवंत सिंह हाड़ा जैसे नेताओं को संयोजक और प्रभारी बनाया गया है।  आगे पढ़ें

lokasabha-ke-chuunaavee-samar-kee-taiyaaree-ko-ant

लोकसभा के चुुनावी समर की तैयारी को अंतिम रूप दे रही भाजपा, बना रही खास रणनीति

हाल में, दिल्ली के रामलीला मैदान में हुए भाजपा के राष्ट्रीय अधिवेशन में प्रधानमंत्री मोदी ने सामूहिक नेतृत्व पर बल दिया था और पार्टी को चुनाव जीतने के लिए सिर्फ उन पर निर्भर न होने को कहा था। हालांकि, बीजेपी 2019 के चुनाव को अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव के स्टाइल में बदलने की ओर बढ़ती दिख रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बीजेपी के प्रचार अभियान का चेहरा होंगे। पार्टी इस बात को प्रमुखता से उठाएगी कि विपक्ष के पास मोदी के टक्कर का कोई नेता नहीं है और वही एक नेता हैं जो मजबूत और स्थायी सरकार दे सकते हैं।  आगे पढ़ें

namo-aip-par-kie-ja-rahe-sarve-se-kaee-bhaajapa-sa

नमो ऐप पर किए जा रहे सर्वे से कई भाजपा सांसदों की उड़ी नींद, पीएम मोदी भी ले रहे हैं रुचि

सर्वे में पूछे गए कई सवालों में एक है- अपने संसदीय क्षेत्र के तीन सबसे पॉप्युलर नेताओं के नाम बताओ? यह सवाल बीजेपी के सभी 268 सांसदों का ध्यान आकर्षित कर रहा है। इस सर्वे से पीएम की रूचि साफ है, पीएम ने एक विडियो अपलोड लोगों से कर इस सर्वे में हिस्सा लेने को कहा है। पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा, 'मुझे कई मुद्दों पर आपको सीधा फीडबैक चाहिए।  आगे पढ़ें

pradesh-adhyaksh-banane-ke-baad-sheela-deekshit-ke

प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद शीला दीक्षित के सामने सबसे बड़ी चुनौती कार्यकर्ताओं को एक्टिव करना

शीला और उनकी टीम के सामने सबसे बड़ी चुनौती सबको साथ लेकर चलने की तो है ही, इससे भी बड़ी चुनौती चुनावी साल में सुस्त पड़े नेताओं और वर्करों को ऐक्टिव करना है। दो से तीन महीने के अंदर चुनाव होने हैं और इस दरम्यान नई टीम तैयार कर उसे चुनावी रण में बीजेपी और आप के टक्कर के लिए भी तैयार भी करना है। दूसरी ओर दोनों पार्टियों की टीमें महीनों पहले मैदान में कूद चुकी है।  आगे पढ़ें

shivasena-ke-saath-gheraabandee-mein-jutee-bhaajap

शिवसेना के साथ घेराबंदी में जुटी भाजपा, सीट बंटवारे से बात होगी शुरू

नैशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी का दावा है कि उद्धव ठाकरे ने सीएम देवेंद्र फडणवीस के साथ गुप्त रूप से मुलाकात की है। हालांकि इस दावे की बीजेपी की तरफ से पुष्टि नहीं हो पाई है। इसके अलावा सीएम फडणवीस की पीएम मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के साथ मुलाकात के बाद कई तरह की खबरों को हवा मिल गई है, इसके कुछ घंटे बाद ही पीएम मोदी के सेलापुर में कार्यक्रम में फडणवीस के साथ पहुंचने का प्लान बना।  आगे पढ़ें

varishth-kaangres-neta-entanee-ka-bada-bayaan-kaha

वरिष्ठ कांग्रेस नेता एंटनी का बड़ा बयान: कहा- कांग्रेस में भाजपा से अकेले मुकाबला करने की नहीं है ताकत

केरल के तिरुवनंतपुरम में प्रदेश कांग्रेस कमिटी की आमसभा को संबोधित करते हुए एंटनी ने कहा, 'कांग्रेस अपने अकेले दम पर नरेंद्र मोदी को सत्ता से नहीं हटा सकती। हालांकि लोकसभा चुनाव में मोदी के खिलाफ कांग्रेस बड़ा चेहरा होगी। इसलिए कांग्रेस बीजेपी को हराने के लिए एक बड़े गठबंधन की तलाश कर रही है।'  आगे पढ़ें

savarn-aarakshan-ke-baad-ab-kin-muddon-par-daanv-l

सवर्ण आरक्षण के बाद अब किन मुद्दों पर दांव लगाएगी भाजपा, रामलीला मैदान में चलेगा पता

बीजेपी सूत्रों का कहना है कि चूंकि यह राष्ट्रीय परिषद के रूप में राष्ट्रीय अधिवेशन हो रहा है, ऐसे में प्रधानमंत्री इसके समापन भाषण के जरिए न सिर्फ अपने कार्यकतार्ओं बल्कि देश के वोटरों को भी संदेश देंगे। इनमें वे न सिर्फ पिछले पांच वर्ष के अपने कामकाज के रूप में उपलब्धियां गिनाएंगे बल्कि वे उन नए मुद्दों को भी सामने रख सकते हैं, जिन पर अभी काम होना है। इसके अलावा वे बेरोजगार भत्ते और महिला रिजर्वेशन बिल जैसे महत्वपूर्ण मामलों पर भी दांव खेल सकते हैं। हालांकि ये दोनों ही मुद्दे महत्वपूर्ण हैं लेकिन इनके जरिए प्रधानमंत्री इसे एक बड़े वादे के रूप में पेश कर सकते हैं।  आगे पढ़ें

sapa-basapa-ke-lie-shanivaar-ka-din-hoga-aham-los-

सपा-बसपा के लिए शनिवार का दिन होगा अहम, लोस चुनाव के लिए गठबंधन की कर सकते हैं घोषणा

ऐसा पहली बार होगा जब यूपी की राजनीति के दो दिग्गज मायावती और अखिलेश यादव साथ-साथ मीडिया से रूबरू होंगे। प्रेस कॉन्फ्रेंस लखनऊ के होटेल ताज में होगी जिसके लिए मीडिया को आमंत्रित किया गया है। यह आमंत्रण एसपी के राष्ट्रीय सचिव राजेंद्र चौधरी और बीएसपी के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा की ओर से भेजा गया है।  आगे पढ़ें

Previous 1 2 3 4 5 Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति