होम योगी आदित्यनाथ
uma-bhartis-controversial-comment-priyanka-gandhi-

उमा भारती ने की विवादित टिप्पणी, प्रियंका गांधी को कहा चोर की पत्नी

प्रियंका गांधी के बनारस से चुनाव लड़ने के सवाल पर भारती ने कहा कि भारतीय लोकतंत्र में कोई भी कहीं से भी चुनाव लड़ सकता है। भारती ने चुनाव आयोग द्वारा योगी आदित्यनाथ और आजम खान के खिलाफ की गई कार्रवाई के संबंध में कहा कि आयोग ने योगी जी और आजम खान को एक जैसा दंड सुनाया है। जबकि दोनों के अपराध में बहुत बड़ा अंतर है। उन्होंने कहा कि एक का तो मामला इतना है कि मायावती जी ने कुछ कहा और उसकी प्रतिक्रिया में योगी जी ने कुछ कहा। उन्होंने भगवान का नाम लिया। किसी महिला का या किसी का अपमान नहीं किया। लेकिन जो समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान ने किया है। उनके हिसाब से तो उन पर जो कार्रवाई होनी चाहिए वह सिर्फ बोलती बंद कर देनी की नहीं होनी चाहिए।  आगे पढ़ें

yogi-will-present-ramlals-philosophy-rahul-will-vi

चुनाव आयोग के प्रतिबंध के बाद योगी आज करेंगे रामलला के दर्शन, राहुल भी जाएंगे महाविष्णु के मंदिर

मेरठ की रैली में सीएम योगी ने कहा था कि यदि सपा-बसपा गठबंधन को अली पर भरोसा है तो हमें बजरंग बली पर विश्वास है। इस टिप्पणी के आने के बाद चुनाव आयोग ने उनके चुनाव प्रचार पर 72 घंटे के लिए रोक लगा दी थी। इस दौरान के कार्यक्रम निरस्त होने के बाद योगी ने मंगलवार को लखनऊ में बजरंगबली के दर पर मत्था टेका। आवास पर दिनभर कार्यकर्ताओं से मिलते रहे।  आगे पढ़ें

the-time-of-sterilization-of-such-a-trend

ऐसी प्रवृत्ति के बंध्याकरण का समय

चुनाव आयोग के वर्तमान कर्ताधर्ताओं से यही अपेक्षा है कि वे बेहद गंदे हो चुके चुनावी माहौल को सुधारने के लिए कठोरतम कदम उठाएं। आजम खान, मायावती और योगी आदित्यनाथ पर लगाया गया मियादी प्रतिबंध यकीनन आशा की किरण जगाता है, लेकिन पूरा सबेरा तब ही हो पाएगा जब आयोग इन महानुभवों जैसी प्रवृत्ति के बंध्याकरण का उदाहरण पेश कर दे। यह अच्छी बात है कि अब सुप्रीम कोर्ट आयोग की शक्तियों की समीक्षा करने जा रहा है। यह भी शुभ संकेत है कि नेताओं की बहुत बड़ी जमात इस संस्था के प्रभाव के आगे नतमस्तक दिखती है। किंतु फिर भी कुछ कमी है। वरना यह संभव ही नहीं था कि आजम खान का बेटा आज यह बयान दे कि उसके पिता पर केवल मुस्लिम होने के चलते प्रतिबंधात्मक कार्रवाई की गयी है। या मायावती यह नहीं कह पातीं कि आयोग नरेंद्र मोदी की बजाय उनके खिलाफ कार्रवाई कर पक्षपात का परिचय दे रहा है। लिहाजा यह जरूरी है कि आयोग अपनी मौजूदा शक्तियों को ही झकझोर कर जगाये। चुनावी आचार संहिता सहित अपनी मर्यादा के खिलाफ गलत तरीके से उठने वाले एक-एक स्वर पर प्रभावी तरीके से रोक लगाये।  आगे पढ़ें

on-the-notice-of-the-election-commission-cleaning-

चुनाव आयोग के नोटिस पर योगी की सफाई, कहा- किसी को बुरा लगने से मैं आस्था नहीं छोड़ सकता

योगी ने कहा कि उन्होंने कभी भी धर्म और जाति के नाम पर वोट नहीं मांगा था। धर्म और जाति के नाम पर अगर किसी ने वोट मांगा है तो वे विपक्ष के नेता हैं। योगी ने आगे लिखा कि एक राष्ट्रीय दल की नेत्री खुद को धर्म निरपेक्ष कहती हैं। पर क्या मजहब के आधार पर मुसलमानों से वोट मांगना धर्म निरपेक्षता की श्रेणी में आएगा? देश के जिम्मेदार नागरिक होने के कारण मेरा फर्ज बनता है कि इसका लोगों के समक्ष पदार्फाश किया जाए। योगी ने सफाई में कहा कि उन्होंने हरे वायरस उपनाम का उपयोग संकीर्ण दर्जें की उस राजनीति के लिए किया जिसके तहत राजनैतिक दल मूल्यों को नजरंदाज कर धर्म विशेष को वोट बैंक के रूप में इस्तेमाल करते हैं।  आगे पढ़ें

bjp-and-bsp-jolts-with-supreme-courts-strict-vigil

सुप्रीम कोर्ट की सख्ती से योगी और माया के चुनाव प्रचार पर रोक से लगा भाजपा और बसपा को झटका

सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बाद विवादित टिप्पणी को लेकर चुनाव आयोग ने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को 72 घंटे जबकि बीएसपी सुप्रीमो मायावती को अगले 48 घंटे तक किसी भी तरह के चुनाव प्रचार से रोक दिया है। यह रोक मंगलवार से प्रभावी हो गया है। चुनाव आयोग का यह कदम बीजेपी और बीएसपी के लिए बहुत बड़े झटके की तरह है। ऐसा इसलिए भी है कि यूपी में दूसरे चरण का चुनाव 18 अप्रैल को है। यूपी में जिन 8 सीटों पर दूसरे चरण में चुनाव होने हैं, उसे बीजेपी और बीएसपी के लिहाज से काफी अहम माना जा रहा है  आगे पढ़ें

due-to-incorrect-rhetoric-the-election-commission-

गलत बयानबाजी के चलते चुनाव आयोग सख्त, आजम खान और मेनका को भी प्रचार से रोका

चुनाव आयोग के मुताबिक, इन दोनों नेताओं ने प्रचार के दौरान आचार संहिता का उल्लंघन किया है। बता दें कि आजम खान ने रामपुर लोकसभा सीट से बीजेपी प्रत्याशी जयाप्रदा के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी के अलावा अधिकारियों को 'तनखैया' करके संबोधित किया था। आजम खान ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा था कि अधिकारियों से डरने की जरूरत नहीं है। वहीं, सुलतानपुर लोकसभा सीट से प्रत्याशी और केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने प्रचार के दौरान मुसलमानों से कहा था, 'चुनाव तो मैं जीत रही हूं, आप भी वोट दे देना वरना फिर काम कराने आओगे तब देखना।' इन्हीं बयानबाजियों को संज्ञान में लेते हुए चुनाव आयोग ने इन दोनों नेताओं के खिलाफ कार्रवाई करते हुए इन्हें कुछ समय के लिए चुनाव प्रचार से बाहर कर दिया है।  आगे पढ़ें

on-the-statements-of-yogi-and-mayawati-the-electio

योगी और मायावती के बयानों पर चुनाव आयोग ने लिया संज्ञान, नोटिस भेजकर मांगा स्पष्टीकरण

मेरठ में चुनाव प्रचार के दौरान 9 अप्रैल को सीएम योगी आदित्यनाथ के दिए भाषण पर आयोग ने नोटिस भेजा है। चुनाव प्रचार के दौरान आदित्यनाथ ने कहा था, 'एसपी-बीएसपी को अली में यकीन है। हमें भी यकीन है बजरंगबली में।' नाव आयोग ने प्राथमिक जांच के बाद योगी आदित्यनाथ के बयान को आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन माना और नोटिस जारी कर शुक्रवार की शाम तक जवाब दाखिल करने को समय दिया है।  आगे पढ़ें

upa-pm-modi-shah-and-yogi-will-launch-campaigning-

भाजपा के धुरंधर आज पहुंचेंगे यूपी, पीएम मोदी, शाह और योगी करेंगे चुनाव प्रचार की शुरुआत

अमित शाह रविवार को आगरा में चुनावी सभा करेंगे। 26 तारीख को शाह मुरादाबाद में रैली कर विपक्ष पर हमला बोलेंगे। दूसरी ओर, पीएम मोदी अपने चुनाव अभियान की शुरूआत 28 को मेरठ से करेंगे। वहीं, केंद्र और प्रदेश सरकार के मंत्री 24 और 26 को वेस्ट यूपी की सभी 14 लोकसभा सीटों पर रैली करेंगे। केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने बताया कि पार्टी पूरे देश में 24 और 26 मार्च को 'विजय संकल्प सभा' के माध्यम से 2019 लोकसभा चुनाव अभियान का शंखनाद करेगी। सभी टॉप लीडर देश के अलग-अलग लोकसभा क्षेत्रों में 'विजय संकल्प सभा' को संबोधित करेंगे। गृह मंत्री राजनाथ सिंह 24 मार्च को लखनऊ में और 26 मार्च को दिल्ली में सभा करेंगे।  आगे पढ़ें

lok-sabha-elections-yogi-adityanath-shakambri-to-s

लोकसभा चुनाव: अखिलेश को जवाब देने योगी आदित्यनाथ शाकंभरी पीठ से करेंगे चुनाव प्रचार की शुरुआत

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि वह देवबंद से करीब 40 किमी दूर सहारनपुर में स्थित शाकम्भरी पीठ से चुनाव प्रचार की शुरूआत करेंगे। उन्होंने कहा कि एसपी-बीएसपी गठबंधन द्वारा देवबंद से चुनाव प्रचार की शुरूआत करना यह दशार्ता है कि उनकी नीति और प्राथमिकता क्या है। बताया जा रहा है कि योगी नाम वापसी की आखिरी तारीख के बाद 25 मार्च के आसपास शाकम्भरी पीठ जाएंगे। बीजेपी का भगवा चेहरा कहे जाने वाले योगी आदित्यनाथ का शाकम्भरी पीठ जाना एसपी-बीएसपी-आरएलडी के महागठबंधन के ठीक उलट है। महागठबंधन के नेता 17 अप्रैल को देवबंद से अपने चुनाव प्रचार की शुरूआत करने जा रहे हैं जहां इस्लामिक शिक्षण संस्थान दारुल उलूम देवबंद स्थित है।  आगे पढ़ें

bjps-strategy-can-be-started-before-going-to-the-p

चुनाव मैदान में उतरने से पहले भाजपा की रणनीति शुरू, यूपी में कट सकता है कई सांसदों का टिकट

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, उत्तर प्रदेश में बीजेपी के तीन दर्जन मौजूदा सांसदों का टिकट भी पार्टी काट सकती है। वहीं, कई मौजूदा सांसदों का टिकट खतरे में है। टिकट काटने का आधार सांसदों का क्षेत्र में प्रदर्शन माना जा रहा है। बुधवार देर रात अमित शाह के आवास पर चली ढाई घंटे की बैठक में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, दिनेश शर्मा, पीयूष गोयल और हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर मौजूद थे। बैठक में उत्तर प्रदेश के गठबंधन और आगामी चुनाव की तैयारियों पर भी चर्चा की गई।  आगे पढ़ें

Previous 1 2 Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति