होम मोदी
in-the-last-phase-youth-voted-hard-to-vote-2-perce

अंतिम चरण में युवाओं ने जमकर किया मतदान, 2014 के मुकाबले 2 प्रतिशत बढ़े वोट

कुछ इलाके ऐसे भी रहे जहां वोट प्रतिशत पिछली बार के मुकाबले घट गया। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकसभा सीट वाराणसी शामिल रही जहां इस बार 58.05 प्रतिशत वोट पड़े। इसके अलावा चंदौली में भी यही हालात रहे जहां इस बार करीब 57 प्रतिशत वोटिंग हुई। देवरिया में भी पिछली बार के मुकाबले 3 प्रतिशत अधिक वोटिंग हुई। मुख्य निर्वाचन अधिकारी के मुताबिक, अंतिम परिणाम आने तक वोटिंग प्रतिशत में और अधिक बढ़ोतरी होगी।  आगे पढ़ें

modi-wave-prevails-in-exit-polls-bjp-surges-350-in

एग्जिट पोल में मोदी लहर कायम, चाणक्य के सर्वे में भाजपा 350 के पार

अधिकांश एग्जिट पोल का निष्कर्ष यही है कि देश में मोदी लहर कायम है और एक बार फिर एनडीए सरकार बनने जा रही है। वहीं चाणक्य का सर्वे सबसे अलग आंकड़ा दे रहा है। इसके मुताबिक, एनडीए को 350 सीटें मिल सकती हैं। सर्वे के मुताबिक, इस आंकड़े में 14 सीटों का फेरबदल हो सकता है। कांग्रेस को महज 95 सीटों से संतोष करना पड़ सकता है। वहीं अन्य के खाते में 97 सीटें जा सकती हैं। 2014 में अन्य को 147 सीटें मिली थीं। चाणक्य का सर्वे दिलचस्प रहता है, क्योंकि पिछले चुनावों में इसका अनुमान सबसे अलग रहा है और कई बार आश्चर्यजनक रूप से सटीक भी रहा है। चाणक्य ने इस बार न्यूज 24 के साथ एग्जिट पोल किया है।  आगे पढ़ें

lok-sabha-elections-in-the-last-phase-voting-on-59

अंतिम चरण में पहुंचा लोकसभा चुनाव, 59 सीटों पर वोटिंग कल, रिजल्ट मोड में आए सियासी दल

आपको बता दें कि पिछले 24 घंटों में प्रचार वाला शोर भले ही न हो पर नेताओं की मुलाकातें जारी हैं। दरअसल, सातवें चरण का चुनाव प्रचार शुक्रवार शाम में ही समाप्त हो गया था। ऐसे में सियासी खेमों में समीकरण साधे जा रहे हैं। यह सब तब हो रहा है जब एक दिन बाद अभी 59 अहम सीटों पर मतदान होना बाकी है, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सीट वाराणसी भी शामिल है।  आगे पढ़ें

modi-will-arrive-in-kedarnath-dham-cave-as-a-resul

चुनाव प्रचार खत्म होते ही पीएम मोदी पहुंचे केदारनाथ धाम, गुफा में करेंगे साधना

मोदी शनिवार को केदारनाथ जाएंगे और दर्शन करेंगे। वहीं रविवार को वे बद्रीनाथ में दर्शन करेंगे। केदारनाथ में मोदी एक खास गुफा में जाएंगे और कुछ समय गुजारेंगे। यह गुफा केदारनाथ मंदिर परिसर से डेढ़ किलोमीटर की दूरी पर बनी है। इसकी ऊंचाई करीब 12,250 फीट है। रात को वे केदारनाथ में ही रुकेंगे। वह रविवार की दोपहर को वापस दिल्ली आएंगे। बता दें, केदारनाथ धाम के प्रति मोदी की गहरी आस्था है। 80 के दशक में उन्होंने डेढ़ माह तक यहां समय गुजारा था और साधना की थी। वे 2017 में भी यहां आए थे।  आगे पढ़ें

polling-for-the-last-phase-tomorrow-pm-modi-in-man

आखिरी चरण के लिए मतदान कल, पीएम मोदी सहित कई दिग्गज मैदान में

चंडीगढ़ और सात राज्यों के लिए चुनाव प्रचार जहां आज खत्म हुआ, वहीं पश्चिम बंगाल में हिंसा की कई घटनाओं के मद्देनजर चुनाव आयोग ने गुरुवार को ही चुनाव प्रचार खत्म करने का आदेश दिया था। आखिरी चरण के लिए कुल 918 उम्मीदवार मैदान में हैं। चुनाव प्रचार खत्म होने के बाद बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की जिसमें प्रधानमंत्री मोदी भी मौजूद थे। हालांकि पत्रकारों के सवालों के जवाब अमित शाह ने ही दिए। बीजेपी की प्रेस कॉन्फ्रेंस के वक्त ही कांग्रेस मुख्यालय में राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने मीडिया को संबोधित किया। हालांकि, वह पीएम पद के उम्मीदवार पर कुछ भी बोलने से बचते दिखे।  आगे पढ़ें

modis-tough-message-on-sadhvi-pragya-the-party-may

साध्वी प्रज्ञा पर मोदी का सख्त संदेश, पार्टी भले ही माफ कर दे लेकिन वह मन से माफ नहीं कर पाएंगे

दरअसल नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस से जिस विरासत को अपने पाले में लेने की कोशिश की थी वह महात्मा गांधी और सरदार पटेल की रही है। पीएम मोदी ने हर मौके पर महात्मा गांधी को अपनी तमाम योजनाओं से जोड़ा। अपनी महत्वाकांक्षी योजना स्वच्छ भारत अभियान की शुरूआत भी गांधी जयंती के मौके पर की गई थी। वैश्विक स्तर पर नए सिरे से गांधी का नाम स्थापित करने का दावा किया। पिछले दिनों यूएन की ओर से गांधी जयंती पर एक साथ 100 से अधिक देशों के कलाकारों ने गांधी को श्रद्धांजलि दी थी। इसे मोदी सरकार ने अपनी बड़ा सफलता बताया था। इस साल मोदी सरकार पूरे विश्व में गांधी की 150वीं जयंती भी मना रही है।  आगे पढ़ें

lok-sabha-elections-2019-modi-organized-142-rallie

लोकसभा चुनाव 2019: मोदी ने किए 142 रैलियां और 4 रोड शो, राहुल ने 128 रैलियों को किया संबोधित

बात अगर क्षेत्रीय पार्टियों की करें तो उनका फोकस मुख्य तौर पर संबंधित गृह राज्यों पर रहा। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ उन कुछ मौजूदा मुख्यमंत्रियों में शुमार रहे, जिन्होंने अपने राज्य से बाहर भी प्रमुखता से प्रचार किया। 2 प्रमुख राष्ट्रीय पार्टियों- बीजेपी और कांग्रेस खासकर इनके नेताओं नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी की रैलियों से दोनों दलों की प्राथमिकताओं के बारे में आइडिया लगता है। इसमें पिछले चुनाव की तुलना में इस बार अलग रणनीति की भी झलक मिलती है।  आगे पढ़ें

bsp-supremo-told-pm-modi-for-punch-pm-modi

बसपा सुप्रीमों ने पीएम पद के लिए ठोकी ताल, पीएम मोदी को बताया अनफिट

मायावती ने एक बयान में कहा है कि 'जहां तक विकास का सवाल है, बहुजन समाज पार्टी ने यूपी में बदलाव कर दिखाया है। यूपी में हुए विकास कार्यों के आधार पर यह माना जा सकता है कि देश और लोगों के विकास के लिए बसपा राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेंद्र मोदी से ज्यादा फिट हैं।'  आगे पढ़ें

saadhvee-ka-ghor-anuchit-aacharan

साध्वी का घोर अनुचित आचरण

यह समझ से परे है कि जिस पार्टी का संगठनात्मक ढांचा तथा अनुशासन सर्वाधिक सख्त माना जाता हो, उसी पार्टी में भगवा धारण करने वाले कई लोग क्यों जुबानी अंगारों का प्रतीक बन जा रहे हैं। किसी समय साध्वी उमा भारती ने तो समूची पार्टी की इज्जत भरी बैठक में मीडिया के सामने उतारकर रख दी थी। यकीनन यह भाजपा की जरूरत है कि भगवा आतंकवाद जैसे प्रोपेगेंडा के मुकाबले का मजबूती से जवाब देने के लिए भगवाधारियों की ही मदद ले, किंतु ऐसे लोगों पर अंकुश लगाना भी तो पार्टी के कर्ताधर्ताओं का ही जिम्मा है। किंतु ऐसा होता नहीं दिख रहा। इससे हो यह रहा है कि गैर-राजनीतिक भगवाधारी भी अपनी छवि पर दाग लगता महसूस कर रहे हैं।साध्वी प्रज्ञा ठाकुर का ताजा बयान बे-सिर पैर का है। चलिए मान लिया कि हेमंत करकरे ने उन्हें अमानवीय यातनाएं दीं। इन बातों का जिक्र करते हुए उनका आपा खो देना भी समझ में आता है। किंतु ये अचानक गोडसे कहां से बीच में आ गये? क्या साध्वी को यह इल्म भी नहीं कि मीडिया तो अधिकांश सवाल पूछता ही सनसनी के लिए है। फिर ऐसा कैसे हो गया कि एक सवाल का बचकाना और पूरी तरह असामयिक जवाब देकर उन्होंने देश-भर में अपनी ही पार्टी को नीचा देखने पर मजबूर कर दिया?  आगे पढ़ें

on-the-last-day-of-campaigning-modi-and-mamta-try-

चुनाव प्रचार के आखिरी दिन मोदी और ममता ने झोंकी ताकत, सभाओं और रोड शो के जरिए मतदाताओं को लुभाने की कोशिश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सीएम ममता बनर्जी की आक्रामक रैलियों के बाद बंगाल में लोकसभा चुनाव के सातवें और आखिरी चरण के लिए चुनाव प्रचार थम गया। प्रचार के आखिरी दिन पीएम मोदी ने जहां राज्य में दो रैलियों को संबोधित किया, वहीं ममता बनर्जी ने कई सभाएं और एक रोडशो के जरिए मतदाताओं को साधने की कोशिश की। बता दें कि चुनाव आयोग ने बुधवार को राज्य में एक दिन पहले ही चुनाव प्रचार खत्म करने का फैसला किया था।  आगे पढ़ें

Previous 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10  ... Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति