होम प्रियंका गांधी
bhul-jaie-mulayam-ke-ashirwad-ko

भूल जाइए मुलायम के आशीर्वाद को

यह समझना भूल होगी कि यादव उम्र के असर या वीतराग के चलते ऐसा कह और कर गये। वह ठेठ राजनीतिज्ञ हैं। इसलिए न तो जीवनपर्यंत उनके दिमाग पर झुर्रियां पड़ेंगी और न ही उनका हृदय सियासी वानप्रस्थ की ओर दौड़ेगा। मुलायम ने अपनी मूल इच्छा को दबाते हुए उक्त आशीर्वाद दिया है। ताकि वह यह बता सकें कि उन्हें उत्तरप्रदेश में अपनी पार्टी का बहुजन समाज पार्टी से गठबंधन रास नहीं आया है। इसके संकेत केवल साइकिल और हाथी के मेल तक सीमित नहीं हैं। मुलायम पूर्व में बेटे अखिलेश यादव द्वारा कांग्रेस से हाथ मिलाने का भी खुलकर विरोध कर चुके हैं। उनके कई बयान पढ़ें तो साफ दिखता है कि इस पूर्व मुख्यमंत्री की नजर में आज कांग्रेस की कोई हैसियत नहीं है। read more  आगे पढ़ें

priyanka-takes-a-16-hour-marathon-meeting-preparin

चुनाव तैयारियों को लेकर प्रियंका ने की 16 घंटे की मैराथन बैठक, कार्यकर्ताओं को लगाई फटकार

प्रियंका ने पूर्वी यूपी की संसदीय सीटों के कार्यकर्ताओं के साथ बैठक में लोकसभा तैयारियों की समीक्षा की। मीटिंग में पदाधिकारी और वरिष्ठ नेता शामिल हुए। प्रियंका ने कार्यकर्ताओं से कई कड़े सवाल भी किए और जवाब न मिलने पर फटकार भी लगाई। प्रियंका ने बैठक मंगलवार दोपहर 2 बजे जो बुधवार सुबह साढ़े पांच बजे तक यानी लगभग 16 घंटे तक चली। कांग्रेस के नेता ऐसा दावा कर रहे हैं कि प्रियंका ने बिना लंच-डिनर किए ही मीटिंग जारी रखी।  आगे पढ़ें

priyanka-on-the-question-of-robert-vadra-said-thes

राबर्ट वाड्रा के सवाल पर बोलीं प्रियंका, कहा- ये चीजें चलती रहेंगी, मैं अपना काम करती रहूंगी

मंगलवार रात प्रियंका से पूछा गया है कि क्या रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ चल रही जांच का उन पर कोई असर पड़ेगा तो प्रियंका ने कहा, ये चीजें चलती रहेंगी। मैं अपना काम करती रहूंगी। मालूम हो, ईडी लंदन और बीकानेर की प्रॉपर्टी को लेकर वाड्रा से पूछताछ कर रहा है। बीते दिनों दिल्ली में हुई मैराथन पूछताछ के बाद अब बीकानेर मामले में सवाल-जवाब जारी हैं।  आगे पढ़ें

wish-luck-to-priyanka-with-caution

ताकीद के साथ प्रियंका को शुभकामना

प्रियंका को कमतर आंकने का कोई इरादा नहीं है। गांधी-नेहरू परिवार की इस शख्सियत के सियासत में आने से कांग्रेस में उत्साह है। यह सोमवार को लखनऊ में दिखा भी। विरोधी दल कुछ पसोपेश में हैं। इसलिए उनकी क्षमता पर सवालिया निशान लगाने का सवाल ही नहीं उठता। सवाल यही उठ रहा है कि प्रियंका कितने समय में और किस जतन से इंदिरा जैसे रूप के साथ-साथ स्वरूप भी हासिल कर पाती हैं? इसलिए कि यह राजनीति का वह दौर है जब कांग्रेस देश की राजनीति के केन्द्र में नहीं है। अभी चार-छह दिन पहले मैं दिल्ली में था और वहां 24 अकबर रोड़ पर कांग्रेस मुख्यालय के बाहर पोस्टर लगे थे, कट्टर सोच नहीं-युवा जोश। इस युवा जोश के तीन प्रतीक राहुल, राबर्ट वाड्रा और प्रियंका के चेहरे इस पोस्टर में नुमाया थे। अब क्योंकि कांग्रेस की आशा का इकलौता केन्द्र गांधी परिवार ही रहा है, तो ये सब देख कर परिवारवाद या वंशवाद का कोई भाव मेरे मन में नहीं आया। कांग्रेस का ऊर्जा स्त्रोत अगर इस परिवार में ही है तो कोई क्या कर सकता है। read more  आगे पढ़ें

political-exile-in-up-catches-congress-hopes-from-

यूपी में राजनीतिक वनवास झेल कांग्रेस को प्रियंका से उम्मीद, 2022 में बन सकती हैं सीएम कैंडिडेट

सियासी पिच पर नई खिलाड़ी प्रियंका गांधी वाड्रा को यूपी में इस बार कांग्रेस की राजनीतिक संजीवनी के रूप में उतारा गया है, जिसकी शुरूआत आज प्रियंका के लखनऊ में होने वाले रोड-शो से हो रही है। प्रियंका की इस एंट्री को भले ही लोकसभा चुनाव के चश्मे से देखा जा रहा है, लेकिन कांग्रेस किसी छोर पर प्रियंका को 2022 में यूपी का सीएम कैंडिडेट बनाने का प्रयास करते हुए नजर आ रही है। सोमवार को होने वाले प्रियंका के रोड-शो से पहले यूपी कांग्रेस के कुछ नेताओं ने इसके संकेत भी दिए हैं।  आगे पढ़ें

priyankas-roadshow-before-the-political-atmosphere

प्रियंका के रोड शो से पहले गरमाया सियासी माहौल, भाजपा पर कांग्रेस ने किया पोस्टर वार

लखनऊ को होर्डिंगों, पोस्टरों और बैनरों से पाट दिया गया है। इन होर्डिंग-बैनरों से प्रियंका के स्वागत से लेकर बीजेपी पर वार तक किया गया है। एक पोस्टर में तो प्रियंका गांधी को मां दुर्गा के रूप में दिखाया गया है। दूसरे पोस्टर्स में प्रियंका का जोरदार तरीके से वेलकम किया गया है। युवक कांग्रेस के पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष प्रभाकर पाण्डेय की ओर से एक होर्डिंग लगवाई गई है, जिसके जरिए भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के वरिष्ठ नेताओं पर तंज कसा गया है।  आगे पढ़ें

priyanka-ka-pahala-daura-aajcongress-ke-chamatkari

प्रियंका का पहला दौरा आज, कांग्रेस के चमत्कारिक प्रदर्शन की डगर नहीं आसान

प्रियंका गांधी वाड्रा की राजनीतिक एंट्री का मंच सज गया है। कांग्रेस कार्यकर्ता उत्साह में हैं। एयरपोर्ट से प्रदेश कांग्रेस कार्यालय तक जगह-जगह स्वागत के लिए नेताओं को जिम्मेदारी दे दी गई है। बकौल प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर यह कांग्रेस के राजनीतिक इतिहास का स्वर्णिम दिन होगा। हालांकि, प्रियंका गांधी वाड्रा की राह में चुनौतियां कम नहीं हैं। प्रदेश में अपने बुरे दौर से गुजर रही कांग्रेस के चमत्कारिक प्रदर्शन की डगर इतनी आसान नहीं है।  आगे पढ़ें

ed-office-vadra-inquiries-about-indian-properties-

मनी लाड्रिंग मामले में आज फिर पहुंचे ईडी दफ्तर वाड्रा, भारतीय संपत्तियों के बारे में पूछताछ जारी

मनी लॉन्ड्रिंग मामले में प्रवर्तन निदेशालय आज फिर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के पति राबर्ट वाड्रा से पूछताछ कर रहा है। वाड्रा ईडी दफ्तर पहुंच चुके हैं। यह तीसरी बार है जब प्रवर्तन निदेशायल ने वाड्रा को पूछताछ के लिए बुलाया है। यहां उनसे पूछताछ शुरू हो चुकी है और ईडी के डिप्टी डायरेक्टर के नेतृत्व में टीम उनसे सवाल-जवाब कर रही है। जानकारी के अनुसार आज ईडी, वाड्रा से उनकी भारतीय संपत्तियों के बारे में सवाल पूछ रही है। इनमें यह पूछा जा रहा है कि भारत में वाड्रा की कितनी प्रॉपर्टी हैं, पहली प्रॉपर्टी कब ली, कहां-कहां पॉबपर्टी है, कितने फ्लैट और प्लॉट हैं।  आगे पढ़ें

priyanka-ki-entry-se-utsahit-congress-kodar-lekin-

प्रियंका की एंट्री से उत्साहित कांग्रेस कॉडर, लेकिन भीड़ को वोटो में तब्दील कर पाएंगी!

लंबे समय तक कांग्रेस का गढ़ रहे पूर्वी यूपी में जब पार्टी का प्रदर्शन लगातार गिरने लगा। इसके बाद प्रियंका गांधी को पार्टी का महासचिव बनाया गया और उन्हें पूर्वी उत्तर प्रदेश का प्रभारी बनाया गया। प्रियंका की एंट्री से पार्टी काडर में काफी उत्साह है। इससे साफ है कि वह भीड़ जुटाने में कामयाब होंगी, लेकिन क्या इस भीड़ को वोटों में तब्दील करने में उन्हें कामयाबी मिलेगी।  आगे पढ़ें

money-lodring-mamale-mein-vadra-ko-sata-raha-girap

मनी लॉड्रिंग मामले में वाड्रा को सता रहा गिरफ्तारी का डर, कोर्ट में दायर की अग्रिम जमानत याचिका

बता दें कि वाड्रा के करीबी सहयोगी कहे जाने वाले सुनील अरोड़ा के खिलाफ ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया है। इस मामले में अरोड़ा को कोर्ट से 6 फरवरी तक के लिए गिरफ्तारी से अंतरिम राहत मिल चुकी है। यह मामला लंदन के 12, ब्रायनस्टन स्क्वेयर स्थित 19 लाख पाउंड (करीब 17 करोड़ रुपये) की एक प्रॉपर्टी की खरीदारी में कथित मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़ा हुआ है। ईडी का दावा है कि इस संपत्ति के असल मालिक वाड्रा हैं।  आगे पढ़ें

Previous 1 2 Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति