होम डॉक्ट
vigyaan-mantree-harshavardhan-chaahate-hain-prthve

विज्ञान मंत्री हर्षवर्धन चाहते हैं पृथ्वी मंत्रालय का नाम हो भारत माता मंत्रालय

भारतीय मौसम विभाग के 144वें फाउंडेशन डे कार्यक्रम में उन्होंने भारत माता मंत्रालय नाम रखने की बात कही। कार्यक्रम के दौरान उन्होंने अपने संबोधन में कहा, 'मौसम विभाग डिपार्टमेंट के सचिव एम राजीवन को यदि आपत्ति न हो तो इसमें (भारत माता मंत्रालय) कोई बुराई नहीं है। मंत्रालय को भारत माता मंत्रालय कहा जाए तो क्या हर्ज है।' बता दें कि हर्षवर्धन पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के भी मंत्री हैं।  आगे पढ़ें

maranaasann-mahila-ko-ilaaj-nahin-milane-se-naaraa

मरणासन्न महिला को इलाज नहीं मिलने से नाराज विधायक पहुंचे अस्पताल, ड्यूटी डॉक्टर को किया सस्पेंड

जानकारी के मुताबिक विधायक प्रवीण पाठक जब अस्पताल पहुंचे तो उन्हें जानकारी मिली कि जिस महिला मरीज के बारे में उन्हें शिकायत मिली थी उसका नाम अंगूरी बाई और उसके बच्चेदानी में गांठ की परेशानी से जुझ रही थी। लेकिन उसे अटेंड करने वाला उस समय अस्पताल में कोई नहीं था। इसके चलते इस महिला मरीज की मौत हो गई।  आगे पढ़ें

yah-beemaar-ka-ilaaj-hai-beemaaree-ka-nahin

यह बीमार का इलाज है, बीमारी का नहीं

ऐसा हर उस मामले में होता है, जहां केवल बीमार का उपचार किया जाता है, बीमारी का नहीं। बात का ताजातरीन संदर्भ मध्यप्रदेश है। लेकिन ऐसे सियासी डॉक्टर सारे देश में हैं, जो बीमारी की बजाय केवल बीमार का उपचार कर रहे हैं। जानबूझकर। किसी षड़यंत्र के तहत। अपना उल्लू सीधा करने के लिए। आप बेशक कमलनाथ की तारीफ कर सकते हैं कि उन्होंने किसानों का कर्ज माफ करने की घोषणा कुछ हद तक पूरी की है। लेकिन इसे किसी उल्लेखनीय काम की संज्ञा नहीं दी जा सकती। क्योंकि इससे कर्ज का मर्ज तो कायम ही रहेगा। उलटे यह मर्ज और बढ़ जाएगा।  आगे पढ़ें

bachchiyon-ke-mahaphooj-nahin-raajadhaanee-aath-sa

बच्चियों के महफूज नहीं राजधानी, आठ साल की बच्ची से दुष्कर्म, मामले को रफा-दफा करने में लगी रही पुलिस

बच्ची की मेडिकल जांच करने वाली डॉक्टरों की टीम के मुताबिक भी आरोपित की उम्र 18 से 25 साल के बीच है। डॉक्टरों ने छात्रा की हालत स्थिर बताई है, प्रारंभिक इलाज के बाद उसे एम्स से जिला अस्पताल में भर्ती किया गया है। पुलिस ने इस मामले में एक नाबालिग आरोपित के खिलाफ गोविंदपुरा थाने में पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है। मुख्य आरोपित फरार है।  आगे पढ़ें

na-sookhane-den-is-paudhe-ko

न सूखने दें इस पौधे को

हड़ताल करना आपका अधिकार है। लेकिन यदि मेडिकल जगत में भी एस्मा लगाने की नौबत आ जाए तो सोचिए कि यह प्रोफेशन कहां जा रहा है। जबकि ऐसा होना भी अब चौंकाने वाला नहीं रहा है। आंदोलनकारियों की लड़ाई सरकार से है, तो उसमें मरीज को किसलिए प्रताड़ित किया जाना चाहिए। अखबार रंगे हुए हैं, सरकारी अस्पतालों की बदहाली से। मरीज तड़प रहे हैं। आॅपरेशन रद्द करने पड़ गए। लेकिन आप हैं कि जिद पर अड़े हुए हैं। read more  आगे पढ़ें

Previous 1 Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति