होम चीन
chinese-engineers-have-the-ultimatum-to-leave-the-

चीनी इंजीनियरों को 72 घंटे में देश छोड़ने का अल्टीमेटम, यह है कारण

पुलिस ने गृह मंत्रालय को लिखे पत्र में स्पष्ट किया कि दोनों इंजीनियर सन युवान व जिंक यू मोशन रोबोट लिमिटेड चाइना के कर्मचारी हैं और टूरिस्ट वीजा पर भारत आए हुए हैं और सौर ऊर्जा प्लांट में एस इंटरप्राइजेज कंपनी के इंजीनियर आदर्श कुमार के साथ कार्य कर रहे हैं। उन्हें नोटिस दिया गया है। चीन के दोनों इंजीनियर जब सौर ऊर्जा प्लांट में डेमो दे रहे थे तभी गुढ़ पुलिस पहुंच गई। गुढ़ पुलिस ने इसकी सूचना पुलिस अधीक्षक सहित आईबी को दी। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि दोनों चीनी इंजीनियर किन शर्तों पर काम कर रहे हैं, यही देखना अभी शेष हैं। वह रीवा के एक होटल में 15 दिन से रुके हैं।  आगे पढ़ें

pollution-control-board-will-not-use-plastic-mater

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड में प्लास्टिक की सामग्रियों का नहीं होगा उपयोग, चीनी मिट्टी से बने कप में मिलेगी चाय

प्लास्टिक से निर्मित सजावट की सामग्री, थर्माकोल से बनी सामग्री, प्लास्टिक कैरी बैग, फूड पैकेजिंग आयटम (जो प्लास्टिक सामग्री में पैकेजिंग की हुई हो), प्लास्टिक फ्लावर, फ्लावर पार्ट, बैनर, झंडे, पैंट्स बोतल, प्लास्टिक प्लेटें, चम्मच, कप, गिलास, स्ट्रा व पानी पाउच आदि। साल 2022 तक सिंगल यूज प्लास्टिक (एक बार उपयोग के बाद दोबारा उपयोग में नहीं आने वाली प्लास्टिक सामग्री) को खत्म करना है। केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय इस पर काम कर रहा है। इसके तहत सभी प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को प्लास्टिक के उपयोग को सीमित करने व उनका अल्टरनेट खोजने के निर्देश दिए हैं। इसी के तहत पीसीबी ने अपने दफ्तर से इसकी शुरूआत की है।  आगे पढ़ें

army-wants-to-work-on-connectivity-to-the-border-w

चीन से लगी सीमा तक कनेक्टिविटी का काम समय पर चाहती है आर्मी

आर्मी जनरलों के बीच हर मौसम में अनुकूल पूरे दारबुक-श्योक-दौलत बेग ओल्डी रोड को तेजी से पूरा किए जाने पर चर्चा हुई। पूर्वी लद्दाख में एलएसी के समानांतर होने के कारण यह रणनीतिक रूप से काफी महत्वपूर्ण है। 225 किलोमीटर का यह रास्ता सितंबर 2001 में अपनी शुरूआत से ही पुनर्निर्धारण, खराब निर्माण और अन्य समस्याओं से जूझ रहा है। इसी तरह सिक्किम और लद्दाख में कुछ पुलों को मजबूत किए जाने की जरूरत है ताकि टैंक और तोपों की सही आवाजाही हो सके। एफओएल (फ्यूल, आयल, लुब्रिकैंट) और युद्ध सामग्री के काफिले की आवाजाही के लिए सुरंग का निर्माण अजेंडे में शामिल है।'  आगे पढ़ें

masood-azhar-can-make-new-global-move-to-declare-a

मसूद अजहर को वैश्विम आतंकी घोषित करने अमेरिका का नया कदम चीन को कर सकता है अलग-थलग

आम तौर पर लिस्टिंग कराए गए प्रस्ताव के साथ 10 दिन का नो आॅब्जेक्शन पीरियड होता है, लेकिन ड्राफ्ट को नो आब्जेकशन प्रावधान के तहत न लाकर अनौपचारिक रूप से चर्चा के लिए लाया जाएगा। हालांकि अभी तक यह तय नहीं हो पाया है कि इस पर वोटिंग कब होगी। यदि फिर वोटिंग होती है, तो भी चीन वीटो का इस्तेमाल कर सकता है। सूत्रों के मुताबिक, चीन के पास एक विकल्प है कि वह 'टेक्निकल' विरोध को हटा दे, लेकिन यदि वह ऐसा नहीं करता है तो उसे सार्वजनिक तौर पर यह बताना होगा कि वह संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित आतंकी संगठन के मुखिया का समर्थन क्यों कर रहा है।  आगे पढ़ें

us-allegation-china-is-protecting-the-islamic-terr

अमेरिका का आरोप: हिंसक इस्लामिक आतंकी समूहों को यूएन प्रतिबंध से बचा रहा है चीन

जैश या मसूद का नाम लिए बिना पॉम्पियो ने बुधवार को ट्वीट किया, 'दुनिया मुसलमानों के प्रति चीन के शर्मनाक पाखंड को बर्दाश्त नहीं कर सकती। एक तरफ चीन अपने देश में 10 लाख से अधिक मुसलमानों को प्रताड़ित करता है और दूसरी तरफ यह हिंसक इस्लामिक आतंकी समूहों को यूएन प्रतिबंध से बचाता है।' 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ काफिले पर हमले के बाद अमेरिका ने ब्रिटेन और फ्रांस के साथ मिलकर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अजहर को 'वैश्विक आतंकी' घोषित करने का प्रस्ताव पेश किया, लेकिन चीन ने इसे रोक कर दिया। चीन ने प्रस्ताव को यह तर्क देते हुए अटका दिया कि वह इसके अध्ययन के लिए अधिक समय चाहता है।  आगे पढ़ें

time-for-tough-action-against-china

चीन के खिलाफ सख्त कदम का समय

वर्तमान घटनाक्रम ऐसे समय हुआ है, जब चीन की लगातार कोशिश है कि भारत में निर्यात को और बढ़ाए। उसके इस प्रयास को नाकाम करने के लिए एक बार फिर जनक्रांति की जरूरत है। उसके उत्पादों को न खरीदने का हर भारतीय का संकल्प अजहर मसूद जैसे मानवता के दुश्मन की मदद करने का जबरदस्त प्रतिसाद साबित होगा, इसमें कोई शक नहीं है। राष्ट्रवाद का जो ज्वार पिछले दिनों उठा है उसे साबित करने का यह सही मौका है। यहां सरकार की ओर से भी सख्त कदम की दरकार है। याद रखें कि भारत व चीन दोनों विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) के सदस्य हैं। ऐसे में भारत डब्ल्यूटीओ के नियमों के तहत चीनी माल पर टैरिफ या गैरशुल्कीय प्रतिबंध लगाकर चीनी माल को रोक नहीं सकता है। लेकिन डब्ल्यूटीओ के नियमों का हवाला देते हुए चीन ने बोवाइन मीट, फल, सब्जियों, बासमती चावल और कच्चे पदार्थो के भारत से आयात पर बाधाएं उत्पन्न की हैं। ऐेसे में भारत द्वारा भी चीन के लागत से कम मूल्य पर माल भेजकर भारत के बाजार पर कब्जा करने का आधार देकर चीन के कई तरह के माल पर एंटी डंपिंग ड्यूटी लगाकर उन्हें हतोत्साहित करना होगा। read more  आगे पढ़ें

china-again-to-protect-azhar-masood-protects-him-f

अजहर मसूद के लिए चीन फिर बना सुरक्षा कवच, वैश्विक आतंकी घोषित होने से फिर बचाया

अमेरिका ने बुधवार को चीन की तरफ इशारा करते हुए यहां तक कहा था कि मसूद पर प्रतिबंध लगाने की कोशिश कामयाब नहीं हुई तो इससे क्षेत्रीय स्थिरता को नुकसान पहुंचेगा। मसूद अजहर पर संयुक्त राष्ट्र की तरफ से प्रतिबंध लगाने के लिए अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन ने संयुक्त राष्ट्र की 1267 समिति के तहत प्रतिबंध लगाने का प्रस्ताव किया था। यह प्रतिबंध तभी लागू हो सकता था जब पांचों स्थायी सदस्य और दस अस्थायी सदस्य इसका समर्थन करते।  आगे पढ़ें

india-is-trying-to-persuade-china-on-azhar

मसूद अजहर पर चीन को राजी करने की कोशिश कर रहा है भारत

भारत आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने और उसपर प्रतिबंध लगाने से जुड़े प्रस्ताव पर संयुक्त राष्ट्र में एक राय बनाने के लिए चीन के संपर्क में है। चीन को इस बात के लिए राजी करने का प्रयास किया जा रहा है कि वह संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस की ओर से लाए गए प्रस्ताव का समर्थन करे। read more  आगे पढ़ें

shock-to-pakistan-unsc-condemns-pulwama-attack-chi

पाकिस्तान को झटका: यूएनएससी में पुलवामा हमले की निंदा, चीन ने दिया भारत का साथ

पुलवामा हमले के बाद यह एक एक बड़ा कदम है। दरअसल, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) ने पुलवामा में किए किए गए हमले की कड़ी निंदा करते हुए इसे जघन्य और कायराना कहा है। साथ ही इस हमले के साजिशकर्ताओं, आयोजकों और प्रायोजकों के खिलाफ कार्रवाई की अपील है। खास बात है कि सुरक्षा परिषद ने जो रिजोल्यूशन पारित किया उसमें आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का भी जिक्र किया गया था। यूएनएससी ने कहा कि हमलों के लिए दोषी लोगों को न्याय के कठघरे में लाने की जरूरत है।  आगे पढ़ें

china-can-support-india-on-azhar-masood

अजहर मसूद पर भारत का साथ दे सकता है चीन!

चीन अजहर मसूद पर कोई भी निर्णय लेने से पहले सारे विकल्पों पर विचार कर रहा है. चीन के लिए यह संवेदनशील मुद्दा है क्योंकि इससे पाकिस्तान से संबंधों पर असर पड़ सकता है. चीन संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित कराने में भारत की कोशिशें पहले नाकाम कर चुका है. चीन यूएन सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्य है और वो हर बार मसूद अजहर को लेकर वीटो करता रहा है. read more  आगे पढ़ें

Previous 1 2 Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति