होम आर्थिक
maanav-sansaadhan-mantraalay-kee-ghoshana-aarthik-

मानव संसाधन मंत्रालय की घोषणा: आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग को मिलेगा 10 प्रतिशत आरक्षण, बढ़ेंगी सीटें

जावड़ेकर ने बताया कि देशभर में करीब 40,000 कॉलेज और 900 विश्वविद्यालय हैं और यह कोटा इनमें दिया जाएगा। केंद्रीय मंत्री ने हालांकि सीटों की संख्या को लेकर स्पष्ट रूप से नहीं बताया। मंत्री ने कहा कि जल्द ही कोटा को लागू करने को लेकर जानकारी दी जाएगी।  आगे पढ़ें

donon-sadanon-mein-paas-hua-savarn-aarakshan-kota-

दोनों सदनों में पास हुआ सवर्ण आरक्षण कोटा, अगर आप लेना चाहते हैं फायदा तो इन कुछ कागजों को रखना होगा तैयार

सदन में बिल को लेकर हुए मतदान में इसके विरोध में 7 वोट पड़े। सरकार ने यह संशोधन संविधान के अनुच्छेद 15 और 16 के तहत किया है जिसकी वजह से राज्यों की विधानसभाओं से इसे पारित कराने की जरूरत नहीं होगी। अब राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद 10 फीसदी आरक्षण की यह व्यवस्था केंद्र और राज्य की सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थाओं में प्रभावी हो जाएगी।  आगे पढ़ें

baink-aaph-badauda-banee-desh-kee-teesaree-sabase-

बैंक आफ बड़ौदा बनी देश की तीसरी सबसे बड़ी बैंक, देना और विजया बैंक का हुआ विलय

विलय की वजह बताते हुए उन्होंने कहा कि कई बैंक नाजुक स्थिति में है और इसका कारण अत्यधिक कर्ज तथा फंसे कर्ज (एनपीए) में वृद्धि है। विलय के बाद अस्तित्व में आनी वाली इकाई बैंक गतिविधियां बढ़ाएंगी। बैंक आफ बड़ौदा, विजया बैंक तथा देना बैंक के विलय के बाद बनने वाली नई इकाई का कारोबार 14.82 लाख करोड़ होगा और वह एसबीआई तथा आईसीआईसीआई बैंक के बाद तीसरा सबसे बड़ा बैंक होगा।  आगे पढ़ें

bulandashahar-hinsa-shaheed-pulis-aphasar-ke-parij

बुलंदशहर हिंसा: शहीद पुलिस अफसर के परिजनों को योगी सरकार ने दी 50 लाख की सहायता

योगी आदित्यनाथ ने बुलंदशहर में गोकशी की अफवाह के बाद हुई हिंसा पर दुख व्यक्त किया और उस हिंसा में मारे गए इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की पत्नी को 40 लाख रुपये व माता-पिता को 10 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की।  आगे पढ़ें

bhaarat-kee-vikaas-dar-11-pratishat-giree-rojagaar

भारत की विकास दर 1.1 प्रतिशत गिरी, रोजगार मामले में खड़ी हो सकती है बड़ी चुनौती

देश में नौकरियों की मांग तेजी से बढ़ रही है। हर साल 1.2 करोड़ से ज्यादा नए युवा उन लोगों की कतार में खड़े हो रहे हैं, जिन्हें नौकरी की तलाश है। इस बड़े पैमाने पर नौकरियां पैदा करने के लिए देश की आर्थिक विकास दर हमेशा 8 प्रतिशत से ऊपर होनी चाहिए। हालांकि मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही में यह लक्ष्य हासिल हो गया और विकास दर 8.2 प्रतिशत के स्तर पर पहुंच गई, लेकिन दूसरी तिमाही में यह रफ्तार धीमी पड़ गई।  आगे पढ़ें

Previous 1 Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति