होम आतंकवाद
sainy-pramukh-raavat-ne-kaha-aatankavaad-kaee-sir-

सैन्य प्रमुख रावत ने कहा- आतंकवाद कई सिर वाला राक्षस, कई तरह से पसार रहा पैर

सेना प्रमुख ने कहा कि जम्मू कश्मीर समेत भारत में अलग-अलग तरह का कट्टरपंथ दिखाई दे रहा है। बहुत सी गलत एवं झूठी जानकारियों के कारण युवाओं के अंदर कट्टरता की भावना आ रही है और धर्म संबंधी कई झूठी बातें उनके मनोमस्तिष्क में भरी जा रही हैं। जनरल रावत ने कहा, ''इसलिए आप अधिक से अधिक शिक्षित युवकों को आतंकवाद की ओर बढ़ते देख रहे हैं। उन्होंने पाकिस्तान का नाम लिए बिना कहा कि देश जब तक राष्ट्र की नीति के तौर पर आतंकवाद को बढ़ावा देते रहेंगे, तब तक यह मौजूद रहेगा।  आगे पढ़ें

aatankavaad-samarthit-deshon-par-epheteeeph-kee-na

आतंकवाद समर्थित देशों पर एफएटीएफ की नजर, बढ़ने वाली है पाकिस्तान की मुश्किलें

अपनी हालिया अक्टूबर प्लेनरी के बाद जारी पब्लिक स्टेटमेंट में एफएटीएफ ने कहा है कि पहली बार वह उन राज्यों को मॉनिटर करेगा जो आतंकवाद की फंडिंग करते हैं। एफएटीएफ के इस कदम का असर पाकिस्तान पर भी पड़ेगा जो आतंकी फंडिंग के खिलाफ ऐक्शन नहीं लेने पर जून महीने में टास्क फोर्स की ग्रे लिस्ट में शामिल किया गया है।  आगे पढ़ें

paakistaan-ko-amerika-ka-sakht-sandesh-kaha-shaant

पाकिस्तान को अमेरिका का सख्त संदेश, कहा- शांति बहाली के लिए मोदी का दें साथ

अमेरिका ने पाकिस्तान को सख्त संदेश दिया है और कहा है कि वह पीएम नरेंद्र मोदी, अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी और संयुक्त राष्ट्र सहित दक्षिण एशिया में अमन कायम करने की कोशिश कर रहे हर किसी का समर्थन करे।  आगे पढ़ें

alag-thalag-pados-paakistaan-ne-ekaakeepan-se-peec

अलग-थलग पड़ चुके पाकिस्तान ने एकाकीपन से पीछा छुड़ाने को करतारपुर कॉरिडोर पर भरी हामी?

पाकिस्तान ने करतारपुर में एक हाई-प्रोफाइल इवेंट में कॉरिडोर का शिलान्यास किया, लेकिन भारतीय पक्ष इसे कोई ऐसा कदम नहीं मानता जिससे कि दोनों देशों के बीच व्यापाक वार्ता की शुरूआत हो सके। भारतीय विदेश मंत्रालय ने दो टूक कह दिया है कि अगर पाकिस्तान बातचीत चाहता है तो सबसे पहले उसे आतंकवाद पर रोक लगानी होगी।  आगे पढ़ें

rahul-gandhi-aur-mere-bivee-ki-shadi-marriage-of-r

राहुल गांधी और "मेरी बीवी की शादी"

आतंकवाद विकास से दूर रखे जाने से नहीं पनपता। उसका प्रसार होता है विकास से विमुख होने के चलते। मानव सभ्यता पर कलंक बनी इस प्रवृत्ति के संवाहक हों, प्रेरक हों या हों पिछलग्गू, सभी सिरे से विकास के विरोधी होते हैं। क्योंकि वह जानते हैं कि यदि विकास हो गया तो समस्या नहीं रहेगी, समस्या नहीं रहेगी तो लोग शांतिपूर्वक रहने लगेंगे और ऐसा हुआ तो उनकी दुकान ही ठप हो जाएगी। वस्तुत: आतंकवाद सृजनात्मक विकास से डरता है। लेकिन राहुल इससे ठीक उलट बात कर रहे हैं। फिर आईएसआईएस तो दुनिया में विशुद्ध इस्लामी राज्य की स्थापना करने के लिए आतंकवाद का सहारा ले रहा था। इसमें पता नहीं कहा से राहुल गांधी बेरोजगारी ढुंढ़ लाए। read more  आगे पढ़ें

Previous 1 Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति